दंगे में झुलसने से बचा लखनऊ, मामूली बात पर दो समुदायों में झड़प

दंगे में झुलसने से बचा लखनऊ, मामूली बात पर दो समुदायों में झड़प
Click for full image

रमजान के चौथे दिन रविवार को शहर का माहौल बिगाड़ने की कोशिश की गई। नजीराबाद के भीड़भाड़ वाले इलाके में दो पक्षों के बीच हुए मामूली विवाद को गंभीर रूप दे दिया गया। इसके बाद दोनों पक्षों के लोग आमने-सामने आ गए और जमकर लाठी-डंडे चले। कुछ लोगों ने पथराव करके असलहे लहराये जिससे इलाके में भगदड़ मच गई। मारपीट में तीन लोग घायल हो गए।

घटना के वक्त एसएसपी दीपक कुमार अपने कैम्प कार्यालय में थानेदारों के साथ क्राइम मीटिंग कर रहे थे। बवाल की सूचना मिलते ही कई थानों की फोर्स मौके पर पहुंची। पुलिस ने लाठीचार्ज करके भीड़ को तितर-बितर किया और घायलों को अस्पताल भिजवाया। देर रात तक डीएम और एसएसपी मौके पर डटे रहे। नजीराबाद व उसके आसपास के इलाकों को छावनी में तब्दील कर दिया गया है।

अमीनाबाद के नजीराबाद स्थित एक शापिंग मॉल के पास बड़े मंगल की शुरुआत से अस्थायी प्याऊ संचालित है। प्याऊ की देखरेख करने वाली नया क्वार्टर निवासी महिला के मुताबिक रविवार देर रात यहीं के रहने वाले एक व्यक्ति आ गए। वह प्याऊ को उस जगह से हटाने के लिए कहने लगे। इसी बात को लेकर उनके बीच विवाद शुरू हो गया। आरोप है कि एक पक्ष के लोगों ने तोड़फोड़ करते हुए प्याऊ का काउंटर उलट-पलट दिया। उनके देवर ने इसका विरोध किया, जिसके बाद दूसरे पक्ष के भी दर्जनों लोग जमा हो गए।

एक पक्ष ने दूसरे पक्ष पर हमला कर दिया। इससे सड़क पर अफरातफरी मच गई। लोगों ने अपनी दुकानें बंद कर दीं। मारपीट में एक युवक गंभीर रूप से घायल हो गया। वहीं दो अन्य लोगों का भी कहना है कि उन्हें चोटें आई हैं। सूचना मिलते ही एसएसपी दीपक कुमार कई थानों की पुलिस फोर्स के साथ पहुंचे। पुलिस ने भीड़ को खदेड़ने के लिए लाठियां चलाईं। इससे यहां से निकलने वाला यातायात ठप हो गया।

 

एसएसपी दीपक कुमार ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। एसएसपी ने बताया कि दुकान लगाने को लेकर दो पक्षों में मामूली विवाद हुआ है। इस विवाद की आड़ में कानून व्यवस्था बिगाड़ने की कोशिश करने वालों पर एनएसए के तहत कार्रवाई की जाएगी। पुलिस व्हाट्सएप ग्रुप समेत सोशल मीडिया के तमाम प्लेटफार्म पर नजर रखे हुए है। किसी भी तरह की अफवाह फैलाने वाले के खिलाफ मुकदमा दर्ज करके सख्त कार्रवाई की जाएगी।

 

घटना के बाद पुलिस ने इलाके को छावनी में तब्दील कर दिया। इसके बाद भी दोनों पक्षों के लोग सैकड़ों की तादाद में जुटे रहे। माहौल लगभग शांत हो चुका था लेकिन तभी कुछ लोगों ने धार्मिक नारेबाजी शुरू कर दी। इससे पुलिस चौकन्नी हो गई और नजीराबाद से जुड़े सभी सम्पर्क मार्गों पर रूट मार्च निकाला। एएसपी पश्चिम विकास चन्द्र त्रिपाठी ने पुराने लखनऊ के सभी थानेदारों को अलर्ट कर दिया जिसके बाद पुराने शहर के सभी संवेदनशील स्थानों में गश्त बढ़ा दी गई।

में छिपकर नारेबाजी कर रहे थे। ऐसे शरारती तत्वों पर शिकंजा कसने के लिए पुलिस ने ड्रैगन लाइट से पूरा इलाका रोशन कर दिया और वीडियोग्राफी शुरू कर दी। पुलिस ने इलाके के सभी एसपीओ (विशेष पुलिस अधिकारी) को मौके पर बुलवा लिया और उपद्रवियों की शिनाख्त कराने लगे। इससे तमाम लोग मौके से खिसकने लगे।

Top Stories