Wednesday , December 13 2017

दया शंकर की पत्नी ने मायावती और सिद्दीकी के खिलाफ की POCSO एक्ट की मांग

लखनऊ (उत्तर प्रदेश): भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के निष्कासित नेता दयाशंकर सिंह की पत्नी स्वाति ने शनिवार को मांग की कि बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती और उनकी पार्टी के सहयोगी नसीमुद्दीन के खिलाफ यौन अपराध से बच्चों का संरक्षण अधिनियम (POCSO) के तहत कार्यवाई की जाए |

स्वाति ने आईएएनएस को बताया कि मैंने इस मामले में एक प्राथमिकी दर्ज कराई है, लेकिन इस पर कोई जांच नहीं हुई है। संसद में कानून का गठन किया गया था कि अगर किसी भी महिला को दस सेकंड के लिए घूरा जाता है तो ये बलात्कार के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा। मेरी नाबालिग बेटी को को इस मामले में अनावश्यक रूप से घसीटा गया क्या ये बलात्कार की श्रेणी में नहीं आता है? मेरी मांग है कि मायावती जी और नसीमुद्दीन सिद्दीकी के खिलाफ posco एक्ट लगाया जाए |

स्वाति ने कहा कि भाजपा ने उनके पति दयाशंकर द्वारा मायावती पर की गयी विवादास्पद टिप्पणी को गंभीरता से लेते हुए उनके पति को भाजपा से निष्काषित कर दिया लेकिन बसपा के नसीमुद्दीन सिद्दीकी मुझे और मेरी नाबालिग़ बेटी के लिए अपमानजनक भाषा का प्रयोग कर रहे हैं मायावती उसे ‘न्यायोचित ठहरा’  रही हैं |

भाजपा के राष्ट्रीय सचिव श्रीकांत शर्मा ने कहा कि “सिद्दीकी ने कहा कि सिंह की बेटी को भीड़ के समक्ष पेश किया जाना चाहिए। यह महिलाओं का अपमान है। हम मायावती के औचित्य की निंदा करते हैं। वह इस पर राजनीति कर रही हैं सत्ता के लालच में राज्य के सामाजिक सद्भाव को नुकसान नहीं होना चाहिए। भाजपा की मांग है कि वह बिना शर्त माफी की पेशकश और सिद्दीकी के खिलाफ कार्रवाई की जाए |

 

सिद्दीकी ने कहा कि गुरुवार को निष्कासित कर भाजपा नेता के खिलाफ अपने विरोध प्रदर्शन के दौरान  उन्होंने और उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने कुछ भी अपमानजनक नहीं कहा है |

बसपा नेता ने आरोप लगाया कि भाजपा ने अपने नेता द्वारा की गयी अपमानजनक टिप्पणी से लोगों का ध्यान हटाने और अपनी खोयी हुई राजनीतिक जमीन को हासिल करने के लिए अपने नेता को पार्टी से निष्कासित किया है |

 

 

TOPPOPULARRECENT