Saturday , September 22 2018

दराज़ी उम्र के लिए मुसबत सोच ज़रूरी

हैदराबाद ०५ मार्च‌ : पब्लिक गार्डन वॉकरस एसोसी उष्ण ने आज सुबह की अव्वलीन साअतों में अपना 198 वां माहाना पब्लिक हैल्थ लकचर मौलाना अब्बू उल-कलामआज़ाद ओरीएंटल रिसर्च इंस्टीटियूट बाग़ आम्मा नामपली मैं बसदारत जनाब ग़ुलामयज़्दानी चे

हैदराबाद ०५ मार्च‌ : पब्लिक गार्डन वॉकरस एसोसी उष्ण ने आज सुबह की अव्वलीन साअतों में अपना 198 वां माहाना पब्लिक हैल्थ लकचर मौलाना अब्बू उल-कलामआज़ाद ओरीएंटल रिसर्च इंस्टीटियूट बाग़ आम्मा नामपली मैं बसदारत जनाब ग़ुलामयज़्दानी चेयरमैन मुनाक़िद किया। इंटरनल मैडीसन के माहिर डक्टर के धन राज एम डी कन्सलटैंट फ़ज़ीशीन (मेडि सिटी हॉस्पिटल) हैदराबाद ने बउनवान इंसानी जिस्म पर तनाव और दबाव‌ के असरात मुख़ातब किया। लकचर के आग़ाज़ में मुक़र्रर ने इंसानी जिस्म में वक़ूअ पज़ीर अक्सर अमराज़ को तनाव‌ और दबाव‌ का बाइस बताया।

ये इल्लतें जिस्मानी और ज़हनी दबाव‌ की वजह से लाहक़ होती हैं। बलाकसी साईड इफेक्ट्स इस पर क़ाबू पाया जा सकता है। इस के लिए इबादत में ज्ञान ध्यान, पाबंदी से वरज़िश, मुतवाज़िन ग़िज़ा, मुसबत रवैय्या, अलकहल और तंबाकू के इस्तिमाल को तर्क करना निहायत मुफ़ीद ही। इस के बरख़िलाफ़ तनाव‌, तबीयत में सख़्ती, अमराज़-ए-क़लब, मोटापा, तौलीदी निज़ाम की ख़राबियों और अल्सर वग़ैरा इस का बाइस होता ही। इस तरह आजकल के माहौल में तनाव म‌ज़कूरा अमराज़ का अहम सबब बन गया है।

चुनांचे इस से नजात पाना अज़हद ज़रूरी ही। मुसबत सोच दराज़ी उम्र के लिए बड़ी एहमीयत रखती ही। इबतदा-ए-में जनाब ग़ुलामयज़्दानी ने मुक़र्रर का इस्तिक़बाल करते हुए कहा कि तनाव‌ के बारे में डाक्टर साहिब ने बड़े ही काबिल-ए-फ़हम अंदाज़ और आसान ज़बान में मश्वरे दिए हैं।

सामईन की कसीर तादाद ने शिरकत की। डाक्टर मौसूफ़ ने मुख़्तलिफ़ सवालात के जवाबात भी दिये। योगा एक्सपर्ट इबराहीम जीलानी ने उनवान से मुताल्लिक़ योगा आसन सैशन कई। डाइस पर जी एकमबर रेड्डी सरपरस्त आली, एडवाइज़र एसोसी उष्ण प्रोफ़ैसर मुहम्मद मसऊद अहमद और सरीनवास राव‌ भी मौजूद थी। मोतमिद एसोसीएशन‌ डाक्टर पुरुषोत्तमदास के शुक्रिया पर नशिस्त बर्ख़ास्त हुई।

TOPPOPULARRECENT