Thursday , September 20 2018

दलितों को लुभाने के लिए कांग्रेस का नया प्लान, हर ज़िले में खोलेंगे हेल्प सेंटर

दलितों को लुभाने के लिए राहुल गांधी का ‘दलित हेल्प प्लान’ तैयार है. इसका ऐलान 23 अप्रैल को दिल्ली में तालकटोरा  स्टेडियम मे एक बड़े सम्मेलन से होगा, जिसमें जिग्नेश मेवानी, रोहित वेमुला की मां सहित तमाम दलित चिंतकों को बुलाया गया है.

कांग्रेस की अनुसूचित जाति/जनजाति सेल के नवनिर्मित अध्यक्ष नितिन राउत ने महाराष्ट्र के पहले ही दौरे में न्यूज़ 18 इंडिया के साथ खास बातचीत में खाका बताते हुए कहा कि अभी तो कांग्रेस सबसे पहले SC/ST एक्ट में बदलाव को रोक कर ही रहेगी. जिसके लिए दिल्ली से लेकर देश के सारे जिलो में प्रदर्शन किये जाएंगे. उसके बाद 23 अप्रैल को दिल्ली में एक बड़ा सम्मेलन होगा. इस सम्मेलन का विषय संविधान और अंबेडकर के विचारों की प्रासंगिकता हैं. इसमें दलित चिंतन, अंबेडकर के विचार, दलितों पर अत्याचार और संविधान से खिलवाड़ विषय पर अलग-अलग चर्चा सत्र होगें. राहुल गांधी पूरे सत्र में रहेंगे और अलग-अलग गुटों से बात करेंगे .

राहुल गांधी ने अपनी बात सिर्फ सम्मेलन तक ही सीमित नहीं रखी है बल्कि उनका कहना है कि दलितों के लिए ज़मीनी काम करना भी ज़रुरी है. इसके लिए हर जिले में कांग्रेस दफ्तर में अलग से दलित हेल्प सेंटर होगा जिसमें दलितों को सरकारी पेंशन और छात्रवृत्ति योजना, दलित अत्याचार की रिपोर्ट लिखाने से लेेकर और बाकी अधिकारों के बारे में कानूनी राय भी दी जायेगी. इसके अलावा कांग्रेस अपनी तरफ से दलित छात्रवृत्ति योजना शुरु करेगी जिसमें जरुरतमंद होशियार दलित छात्रों को कांग्रेस की तरफ से सहायता दी जायेगी .

हालांकि राउत ने कहा कि हमारी सोच साफ है कि हम संविधान के दायरे में ही आरक्षण और बाकी अधिकार की बात करेंगे. हम हिंसा या किसी तरह के और रास्ते से अधिकार नहीं चाहते. बाबा साहेब अंबेडकर ने हमको संविधान के दायरे में अधिकार दिए हैं और वो हम लेकर रहेंगे. राउत ने ये भी कहा कि राहुल गांधी की सोच ये भी है कि दलितों को मुख्यधारा के साथ जोड़ा जाए. इसके लिए कांग्रेस के हर जिले के अधिकारी अंबेडकर जयंती दलितों के साथ मिलकर मनाएंगे.

TOPPOPULARRECENT