दलित संगठनों के ‘भारत बंद’ से सहमा देश ,RAF तैनात, पंजाब में स्कूल-कॉलेज, इंटरनेट बंद

दलित संगठनों के ‘भारत बंद’ से सहमा देश ,RAF तैनात, पंजाब में स्कूल-कॉलेज, इंटरनेट बंद

अनुसूचित जाति, जनजाति कानून में बदलाव का विरोध करने के लिए देशभर के दलित संगठनों ने 2 अप्रैल को देशव्यापी बंद का एलान किया है। पंजाब के लुधियाना में भी लोक इंसाफ पार्टी ने भारत बंद का समर्थन किया है। इस बंदी से पंजाब सहमा हुआ है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक पंजाब पुलिस ने एहतियातन लुधियाना में 4000 पुलिसकर्मियों को तैनात किया है। इसके अलावा वहां रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) ने भी मोर्चा संभाल लिया है। लुधियाना के पुलिस कमिश्नर ने कहा है कि सोमवार को बंदी के दौरान जो भी उपद्रव फैलाने या हिंसा फैलाने की कोशिश करेगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इस बीच लोक इंसाफ पार्टी के नेता सिमरजीत सिंह बैंस लोगों से हंगामा नहीं करने और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान नहीं पहुंचाने की अपील की है। बता दें कि लुधियाना में दलितों की अच्छी आबादी है और इसी वजह से प्रशासन सचेत है।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने एससी-एसटी (प्रिवेंशन ऑफ एट्रोसिटीज) एक्ट-1989 में बदलाव करते हुए गैर जमानतीय धाराओं को कमजोर कर दिया है। अब कोर्ट की जगह आरोपी को थाने से भी जमानत मिल सकती है। इस बदलाव के खिलाफ देशभर के दलित संगठनों ने सरकार से सुप्रीम कोर्ट में अपील करने का अनुरोध किया था। दलित संगठनों की अगुवा संस्था नेशनल कन्फेडरेशन ऑफ दलित आदिवासी ऑर्गनाइजेशन के अशोक भारती ने आज (01 अप्रैल को) संसद घेराव का कार्यक्रम भी रखा था। इस बीच केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत ने आंदोलनकारियों से आंदोलन वापस लेने की अपील की थी। दलित संगठनों की मांग है कि संशोधन को वापस लेकर पहले की ही तरह एससी-एसटी कानून को लागू किया जाय।

पंजाब में एहतियातन सभी स्कूल-कॉलेजों को सोमवार को बंद कर दिया गया है और मोबाइल-इंटरनेट सेवाओं को निलंबित रखने का आदेश दिया गया है। बठिंडा जिले में बीएसएफ के करीब 300 जवानों को दो दिन पहले से ही तैनात किया जा चुका है। पंजाब के चीफ सेक्रेटरी ने रक्षा विभाग को चिट्ठी लिखकर आर्मी को तैनात रखने और सूचना पर तुरंत भेजने का आग्रह किया है। उधर, पड़ोसी राज्य हरियाणा में भी दलितों के बंद को लेकर सरकार सतर्क हो गई है

Top Stories