Monday , December 18 2017

दहशतगर्दी की लानत आसियान ममालिक के लिए बड़ा चैलेंज : सुषमा स्वाराज

एशिया पेसेफिक इलाक़े के ममालिक के लिए दहशतगर्दी की लानत को एक बड़ा चैलेंज क़रार देते हुए हिन्दुस्तान ने आज कहा कि दहशतगर्दी से निमटने एक जामि कार्रवाई ज़रूरी है और हिन्दुस्तान के ख़्याल में दहशतगर्दी से निमटने हर जगह यकसाँ तरीका-ए-क

एशिया पेसेफिक इलाक़े के ममालिक के लिए दहशतगर्दी की लानत को एक बड़ा चैलेंज क़रार देते हुए हिन्दुस्तान ने आज कहा कि दहशतगर्दी से निमटने एक जामि कार्रवाई ज़रूरी है और हिन्दुस्तान के ख़्याल में दहशतगर्दी से निमटने हर जगह यकसाँ तरीका-ए-कार इख़तियार करने की ज़रूरत है । 21 वीं आसियान इलाक़ाई फ़ोर्म के इजलास से ख़िताब करते हुए सुषमा स्वाराज ने बैन-उल-अक़वामी बिरादरी से कहा कि वो अफ़्ग़ानिस्तान की ताईद करे क्योंकि वहां तबदीली का पेचीदा अमल चल रहा है। सुषमा स्वाराज ने कहा कि हमें दहशतगर्दी की लानत को एक अज़म के साथ ख़त्म करने की ज़रूरत है और इससे निमटने हर जगह यकसाँ तरीका-ए-कार इख़तियार करना चाहिए ।

हमारा जो अज़म है वो दहशत गरदाना सरगर्मीयों में मुलव्विस अफ़राद और तंज़ीमों के ख़िलाफ़ अमली कार्रवाई की शक्ल में सामने आना चाहिए। दहशतगरदों को आसियान इलाक़ाई फ़ोर्म के रुकन ममालिक में कहीं भी पनाहगाह या ताईद नहीं मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अफ़्ग़ानिस्तान में हालात की तबदीली का पेचीदा अमल जारी है। ऐसे वक़्त में बैन-उल-अक़वामी बिरादरी को अफ़्ग़ानिस्तान की ताईद करनी चाहिए ताकि इस ने गुज़िशता एक दहिय के दौरान दहशतगर्दी से निमटने में जो कामयाबियां हासिल की हैं इनका तहफ़्फ़ुज़ होसके और उस की क़ौमी बेहतरी को ख़तरात लाहक़ ना होने पाये।

हिन्दुस्तान जम्हूरी हुक्मरानी सकीवरीटी और मआशी तरक़्क़ी के मामले में अफ़्ग़ानिस्तान की ताईद का सिलसिला जारी रखेगा। जुनूबी चीन के समुंद्र से मुताल्लिक़ तनाज़आत पर सुषमा स्वाराज ने कहा कि जुनूबी चीन के समुंद्र में जो हालिया तबदीलीयां देखने में आई हैं वो इस बात की ज़रूरत पर ज़ोर देती हैं कि मुताल्लिक़ा ममालिक की सालमीयत के मसाइल को पुरअमन अंदाज़ में बैन-उल-अक़वामी क़वानीन के मुताबिक़ हल किया जाये।

उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान ताक़त के इस्तेमाल की धमकीयों की मुख़ालिफ़त करता है और वो बैन-उल-अक़वामी क़वानीन-ओ-उसूलों के मुताबिक़ बहरी सरगर्मीयों की आज़ादी का हामी है। सभी ममालिक को इन उसूलों का एहतेराम करना चाहिए।
उन्होंने कहा कि हम ने ये महसूस किया कि मुताल्लिक़ा फ़रीक़ैन बातचीत में मसरूफ़ हैं ताकि इस मसले को हल किया जा सके और हिन्दुस्तान को उम्मीद है कि इस ताल्लुक़ से मुनासिब पेशरफ़त भी होगी।

सुषमा स्वाराज ने कहा कि हिन्दुस्तान में एक नई हुकूमत ने इक़तेदार सँभाला है जिसे अवाम की ज़बरदस्त ताईद हासिल हुई है । अब अवाम को इस हुकूमत से अच्छी उम्मीदें हैं और हुकूमत ने भी इजतिमाई मआशी तरक़्क़ी बेहतर हुक्मरानी इन्फ्रास्ट्रकचर के फ़रोग़ तिजारत और सरमायाकारी पर तवज्जे देनी शुरू करदी है।

उन्हों ने कहा कि वो इस बात से वाक़िफ़ हैं कि हिन्दुस्तान को अपने तमाम साथी ममालिक के साथ बेहतर बाहमी रवाबित रखने चाहिऐं ताकि हिन्दुस्तान की नई हुकूमत के एजंडा की तकमील में सहूलत होसके। वज़ीर-ए-ख़ारजा ने कहा कि आसियान स्क्योरिटी को दहशतगर्दी बड़े पैमाने पर तबाही मचाने वाले हथियाओं के फैलाओ इलाक़ाई मसाइल साइबर जराइम और क़ज़्ज़ाक़ी तवानाई अदम सलामती और माहौलियाती अबतरी जैसे मसाइल का सामना है और आसियान इलाक़ाई फ़ोर्म के तमाम रुकन ममालिक को उनसे मुक़ाबला के लिए मुत्तहदा होजाने की ज़रूरत है।

TOPPOPULARRECENT