Monday , December 11 2017

दहशतगर्दों के लिए महफूज़ जगह बना झारखंड

खास कर रांची इंडियन मुजाहिदीन के दहशतगर्दों के लिए महफूज जागह है। यहां दहशतगर्द और टाइमर बम बनाये जाते हैं। इस तंजीम का कई अजला में मुंजिम नेटवर्क है। यह सब अचानक नहीं हुआ। तौविल वक़्त से इस बात के इशारा मिल रहे थे कि झारखंड दहशतग

खास कर रांची इंडियन मुजाहिदीन के दहशतगर्दों के लिए महफूज जागह है। यहां दहशतगर्द और टाइमर बम बनाये जाते हैं। इस तंजीम का कई अजला में मुंजिम नेटवर्क है। यह सब अचानक नहीं हुआ। तौविल वक़्त से इस बात के इशारा मिल रहे थे कि झारखंड दहशतगर्दों के लिए महफूज जगह बनता जा रहा है।

दहशतगर्द तंजीमों के लोग यहां आते हैं। दहशतगर्दों को झारखंड के कुछ भटके हुए लोगों का तहफ्फुज मिलता है। पटना सीरियल बम धमाके से पहले झारखंड में दहशत गर्दों के खिलाफ जो भी कार्रवाई हुई, वह तमाम बाहर की पुलिस या आइबी के सतह से की गयी। किसी भी मामले में झारखंड पुलिस की दिलचस्पी नहीं के बराबर रहती थी। बाहर से आनेवाली पुलिस को सिर्फ मदद भर किया जाता था।

TOPPOPULARRECENT