Saturday , September 22 2018

दहश्तगर्दों का पहला शिकार मुसलमान शहरी होते हैं – फ़्रांसीसी वज़ीरे ख़ारजा

फ़्रांसीसी वज़ीरे ख़ारजा लोरान फ़ेबियोस ने आलमी बिरादरी से दहश्तगर्दी के ख़िलाफ़ तआवुन की अपील की है। उन का कहना है कि दहश्तगर्दी का पहला शिकार मुसलमान ही होते हैं।

फ़्रांसीसी वज़ीरे ख़ारजा लोरान फ़ेबियोस ने आलमी बिरादरी से दहश्तगर्दी के ख़िलाफ़ तआवुन की अपील की है। उन का कहना है कि दहश्तगर्दी का पहला शिकार मुसलमान ही होते हैं।

कुवैत के दौरे के मौक़ा पर सहाफ़ीयों से बात करते हुए उन्हों ने कहा कि कोई भी मज़हब के नाम पर नहीं लड़ता। कुवैत और फ़्रांस दहश्तगर्दी के ख़िलाफ़ लड़ रहे हैं, हम उन से लड़ रहे हैं जो ना सिर्फ़ झूटे बल्कि क़ातिल भी हैं।

उन्हों ने कहा कि मुसलमान इन दहश्तगर्दों का पहला निशाना बनते हैं। इस मौक़ा पर कुवैत के वज़ीरे ख़ारजा शेख़ सबाह अल सबाह ने कहा कि दहश्तगर्दी के ख़िलाफ़ फ़्रांस और कुवैत के नज़रियात एक ही हैं। उन्हों ने पैरिस हमलों की एक बार फिर शदीद मुज़म्मत भी की।

TOPPOPULARRECENT