दाऊद के इशारे पर खेला गया स्पॉट फिक्सिंग का ये खेल!

दाऊद के इशारे पर खेला गया स्पॉट फिक्सिंग का ये खेल!
मुंबई, नई दिल्ली, 18 मई: आईपीएल में स्पॉट फिक्सिंग का मामला अब अंडरव‌र्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से जुड़ गया है। खबर है कि इस सारे 'खेल' के पीछे दाऊद के एक करीबी साथी सुनील रामचंदानी उर्फ सुनील दुबई का हाथ है, जो दुबई से रैकेट को चलाने का का

मुंबई, नई दिल्ली, 18 मई: आईपीएल में स्पॉट फिक्सिंग का मामला अब अंडरव‌र्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से जुड़ गया है। खबर है कि इस सारे ‘खेल’ के पीछे दाऊद के एक करीबी साथी सुनील रामचंदानी उर्फ सुनील दुबई का हाथ है, जो दुबई से रैकेट को चलाने का काम करता है। सट्टेबाजों के बीच वह ‘जुपिटर’ नाम से जाना जाता है। उसके कई सियासदाँ, बिल्डिरों और पुलिस आफीसरों से ताल्लुक हैं।

एक अंग्रेजी अखबार ने दिल्ली पुलिस के एक आफीसर के हवाले से बताया है कि स्पॉट फिक्सिंग में हवाला के जरिये जिस तरह से पैसे का लेन-देन हुआ है वह साफ इशारा करता है कि इसके पीछे डी-कंपनी का हाथ है। आफीसरों ने कहा कि हाल के दिनों में सट्टेबाजी गिरोहों से ‘डब्बा फोन’ (वह फोन जिस पर दुबई से सट्टेबाजी का रेट लिया जाता है) की जब्ती में इजाफा होने से इस बात की तस्दीक होती है कि हजारों करोड़ के इस फिक्सिंग के कारोबार पर दाऊद के आदमी का कंट्रोल है।

स्पेशल सेल के ज़राए ने कहा है कि एक टीम सट्टेबाजों के दाऊद से ताल्लुकात की जांच कर रही है। हम लोग इस बात का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि सट्टेबाजों के सरगना की तरफ से इस्तेमाल किया गया नंबर वास्तव में दुबई से आया था, या कहीं और से। ज़राए ने कहा कि इस मामले के जांच के तार कराची, दुबई, जयपुर, कोलकाता और अहमदाबाद से जुड़ रहे हैं।

इससे पहले दिल्ली पुलिस कमिश्नर नीरज कुमार ने कहा कि आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग में मुंबई अंडरव‌र्ल्ड शामिल है। हालांकि उन्होंने इसके दुबई-कराची कनेक्शन के बारे में तफ्सील से कुछ भी नहीं बताया था। उन्होंने सिर्फ इतना कहा था कि इस मामले के अहम साजिशकार बैरून में बैठे हैं और वे मुंबई अंडरव‌र्ल्ड से जुड़े हुए हैं।

रिपोर्ट में सुनील दुबई के बारे में कहा गया है कि अपना ठिकाना दुबई ले जाने से करीब 20 साल पहले उसने मुंबई में अपने ऑपरेशन की शुरुआत की थी। मुंबई पुलिस के एक सीनीयर आफीसर ने बताया है कि कुछ साल पहले तक वह दुबई और मुंबई के बीच राबिता कायम करने के लिए खुद आता-जाता था। हाल में सट्टेबाजी में सुनील का नाम आने के बाद पुलिस ने इसके खिलाफ लुक-आउट नोटिस जारी किया।

उसने दुबई से ही मुंबई कोर्ट में आगे बढ़ाने की जमानत (Anticipatory bail) कि दरखास्त दाखिल की, जो पिछले महीने खारिज हो गई थी।

सुनील दुबई के बारे में कहा जा रहा है कि 10 साल पहले छोटा राजन गिरोह की तरफ से दाऊद के खास आदमी शरद शेट्टी को हलाक करने के बाद उसने डी कंपनी के सट्टेबाजी के धंधे को संभाला। माना जा रहा है कि सुनील का खानदान लंदन में रहता है जिनसे मुलाकातके लिए वह बराबर वहां जाता है। वह कराची भी बराबर जाता है, जहां दाऊद और उसका दाहिना हाथ छोटा शकील रहता है। पुलिस ज़राए ने कहा कि सुनील ने अपना 500 करोड़ रुपये का कारोबार मुंबई, दिल्ली, दुबई और कराची तक फैला लिया है।

ज़राए ने कहा कि मुंबई के कई सट्टेबाज इससे अपनी इखलास (वफादारी) रखते हैं। वह सट्टेबाजी का रेट तय करता है और सभी उस पर अमल करते हैं। क्रिकेट में फिक्सिंग उसकी इजाजत के बगैर नहीं हो सकती है।

गौरतलब है कि दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने जुमेरात को आइपीएल में राजस्थान रॉयल्स टीम के तीन खिलाड़ियों एस श्रीसंत, अजीत चंदीला और अंकित चव्हाण के साथ-साथ 11 सटोरियों को स्पॉट फिक्सिंग के इल्ज़ाम में गिरफ्तार किया है।

———बशुक्रिया: जागरण

Top Stories