Wednesday , December 13 2017

दाग़ी क़ाइद की बी जे पी में शमूलीयत से पार्टी में नाराज़गीयाँ

नई दिल्ली, ०७ जनवरी (पी टी आई) बी जे पी की दाख़िली सफ़ों में इस वक़्त इंतिशार पैदा हो गया । जब बी एस पी के साबिक़ दाग़ी क़ाइद बाबू सिंह कुशवाहा को पार्टी में शामिल किया गया, जिन्हें NRHM स्क़ाम में मुबय्यना तौर पर मुलव्वस होने सी बी आई की तहक

नई दिल्ली, ०७ जनवरी (पी टी आई) बी जे पी की दाख़िली सफ़ों में इस वक़्त इंतिशार पैदा हो गया । जब बी एस पी के साबिक़ दाग़ी क़ाइद बाबू सिंह कुशवाहा को पार्टी में शामिल किया गया, जिन्हें NRHM स्क़ाम में मुबय्यना तौर पर मुलव्वस होने सी बी आई की तहक़ीक़ात का सामना है।

बी जे पी बाबू सिंह कुशवाहा की शमूलीयत की मुख़ालिफ़त कर रही है। ये वाक़िया बिलकुल ऐसा है जब 2004/05 मैं शिवसेना के साबिक़ क़ाइद संजय नरोपम को कांग्रेस में शामिल करने की इस वक़्त के अदाकार से सियासतदां बने सुनील दत्त ने सख़्त मुख़ालिफ़त की थी। कहा जाता है कि संजय नरोपम की कांग्रेस में शमूलीयत से वाह इतने दिलबर्दाशता हुए थे कि मई 2005 में इन का इंतिक़ाल हो गया था।

उत्तर प्रदेश के आ तौला से बी जे पी एम पी मेनका गांधी ने भी कुशवाहा की कांग्रेस में शमूलीयत की सख़्त मुख़ालिफ़त की हैं।

क़ब्लअज़ीं कीर्ति आज़ाद, योगिनी आदित्य नाथ ने भी पार्टी के फ़ैसला पर नाराज़गी का इज़हार किया था और कहा था कि एक ऐसे क़ाइद को जिसे 2000 करोड़ रुपय NRHM स्क़ाम में मुलव्वस पाया गया है,पार्टी में शामिल करना क़तई ग़ैर मुनासिब है, जिन्हें बी एस पी ने धुतकार दिया उन की आव भगत करने से बी जे पी की अख़लाक़ीयात की क़लाई खुल जाती है। कुशवाहा की जानिब से क़बल पार्टी के किसी भी रुकन से मुशावरत नहीं की गई ।

TOPPOPULARRECENT