Monday , December 18 2017

दागी अमित शाह को फिर दिया गया टिकट

अहमदाबाद, २९ नवंबर: गुजरात असेंबली इलेक्शन में बीजेपी ने साबिक वज़ीर ए दाखिला अमित शाह को दोबारा टिकट दिया है। अमित शाह वही शख्स है, जिन्हें कोर्ट ने तड़ीपार कर दिया था, उनके ऊपर फर्जी मुठभेड़ समेत कई इल्ज़ाम लगे हुए हैं। ऐसे में कांग्

अहमदाबाद, २९ नवंबर: गुजरात असेंबली इलेक्शन में बीजेपी ने साबिक वज़ीर ए दाखिला अमित शाह को दोबारा टिकट दिया है। अमित शाह वही शख्स है, जिन्हें कोर्ट ने तड़ीपार कर दिया था, उनके ऊपर फर्जी मुठभेड़ समेत कई इल्ज़ाम लगे हुए हैं। ऐसे में कांग्रेस को गुजरात के वज़ीर ए आला नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक और मुद्दा मिल गया है |

वहीं, मोदी ने कांग्रेस के नायब सदर गिरीश परमार को भी टिकट दिया है। गिरीश बुधवार को कांग्रेस का साथ छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए थे। उनका नाम कांग्रेस की पहली फहरिश्त से बाहर कर दिया गया था।

मोदी ने अमित शाह पर दोबारा भरोसा कर उन्हें नारनपुर से टिकट दिया है। उन पर सोहराबुद्दीन और तुलसी प्रजापति मुठभेड़ मामले में फर्जी एनकाउंटर कराने के इल्ज़ाम लगे हैं। शाह पिछले असेंबली इलेक्शन में सरखेज से करीब ढाई लाख वोटों से फतह हुए थे।

लेकिन मौजूदा वक्त में इसमें (सरखेज)से ही तीन असेंबली हल्का (क्षेत्र) बना दिए गए हैं। इनमें नारनपुरा के साथ वेजालपुर और घटलेडिया शामिल हैं। शाह को यूं भी मोदी का बेहद करीबी माना जाता है। गुजरात के असेबली इलेक्शन इस बार पहले से ज्यादा दिलचस्प होने वाले हैं।

जहां पहले मोदी का साथ देने के लिए केशूभाई थे वहीं अब वह उनके सबसे बड़ी चैलेंज देने वाले उम्मीदवार भी बन गए हैं। केशूभाई और कांग्रेस का निशाना सिर्फ मोदी को पछाड़ना है। हालांकि इलेक्शन के पहले कराए गए सर्वे में मोदी को एक बार फिर से रीयासत की सत्ता पर दिखाया गया है लेकिन इस बात को दरकिनार नहीं किया जा सकता है कि केशूभाई की पार्टी ने रीयासत के इलेक्शन में बेहतर मुज़ाहिरा किया तो वह आगे चलकर कांग्रेस का हाथ थाम सकती है। इतना ही नहीं अगर मौका मिला तो वह अपनी हुकूमत बनाने से भी पीछे नहीं हटेंगे।

भाजपा ने असेंबली इलेक्शन के लिए उम्मीदवारों की दूसरी फरिस्त बुधवार को जारी कर दी। इसमें एक भी मुस्लिम को टिकट नहीं दिए जाने से वज़ीर ए आला नरेंद्र मोदी के सद्भावना उपवास (ब्रत) अभियान पर सवाल भी उठने लगे है। मोदी के करीबी अमित शाह, आनंदीबेन पटेल, नितिन पटेल, जयनारायण व्यास को उम्मीद की हुई सीट मिली जबकि बुधवार को ही बीजेपी में शामिल हुए काग्रेस के नायब सदर गिरीश परमार व गुजराती फिल्म स्टार नरेश कनोडिया के बेटे हितेश कनोडिया पर भी पार्टी ने दा‍व लगाया है।

मरकज़ी आला कमान से बहस (चर्चा) के बाद प्रदेश बीजेपी के सदर आरसी फलदू ने दूसरे मरहले के लिए 89 बीजेपी उम्मीदवारो की फहरिस्त जारी की है, जिसमें पार्टी के सभी सीनीयर लीडरो को जगह मिली है, जबकि पांच सोटों के लिए नामों पर बीजेपी अभी भी मंथन करेगी।

मोदी के खिलाफ मैदान में उतरे साबिक वज़ीर ए आला जीपीपी (Gujarat Parivartan Party) के सदर केशूभाई पटेल को देखते हुए इस बार मोदी ने ‘नो रिपीट थ्योरी’ को दरकिनार कर पुराने सिपहसलारों पर ही दाव आजमाया है।

वज़ीर ए आला के सद्वभावना उपवास के बाद माना जा रहा था कि बीजेपी इस इलेक्शन में 3 से 5 सीट पर मुस्लिम उम्मीदवार को खड़ा करेगी लेकिन मोदी ने हिंदू वोट बैंक को पहले की तरह रखने के लिए इन सभी आकलनों को नकारते हुए अपना एजेंडा भी साफ कर दिया है।

बेस्ट बेकरी दंगा मामले में मुल्ज़िम रह चुके एम एल ए (Legislator) मधु श्रीवास्तव को फिर वाघोडिया सीट मिली है।

TOPPOPULARRECENT