Saturday , December 16 2017

दाढ़ी नहीं रखने दें तो छोड़ दो नौकरी: दारुल उलूम का फतवा

आईएएफ के एक अधिकारी ने दारुल उलूम से ऑनलाइन से एक सवाल पूछा था कि उसने छोटी उम्र में नौकरी जॉइन की थी। उस वक्त उसकी दाढ़ी नहीं थी, लेकिन अब वह दाढ़ी रखना चाहता है,

इस सवाल सहारनपुर के इस्लामिक मदरसा दारुल उलूम देवबंद ने जवाब देते हुए कहा- अगर इंडियन एयरफोर्स के नियमों के मुताबिक दाढ़ी बढ़ाने की परमिशन नहीं है और नौकरी की शुरुआत में आपने एग्रीमेंट साइन किया है तो ऐसी स्थिति में आपके पास दो ऑप्‍शन हैं।

1. अगर आप आर्थिक रूप से मजबूत हैं और आसानी से पैसे कमाने का दूसरा सोर्स ढूंढ सकते हैं, तो नौकरी छोड़ दें।
2.अगर आप पैसे कमाने का कोई रास्ता नहीं खोज पा रहे हैं तो आप ये नौकरी जारी रखें और अल्‍लाह से माफी मांगते रहें।

फतवे में आगे ये भी कहा गया- अगर आपको धार्मिक आजादी मिल रही है। जैसा कि भारतीय संविधान में लिखा है और डिपार्टमेंट दाढ़ी बढ़ाने की परमिशन नहीं दे रहा है तो आप किसी वकील की सलाह ले सकते हैं।” यह सलाह दारुल उलूम के वाइस चांसलर मौलाना मुफ्ती अबुल कासिम नोमानी ने दी उन्होंने और कुछ ज्यादा बोलने से मना कर दिया।

TOPPOPULARRECENT