Monday , December 18 2017

दिग्विजय ने धमाकों से जोड़ा मोदी का कनेक्शन

नई दिल्ली, 9 जुलाई: बोधगया में धमाकों के बाद कांग्रेस और बीजेपी के बीच सियासी धमाके थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। कांग्रेस जनरल सेक्रेटरी दिग्विजय सिंह ने बोधगया के धमाकों को ठीक एक दिन पहले गुजरात के वज़ीर ए आला नरेंद्र मोदी की बिहा

नई दिल्ली, 9 जुलाई: बोधगया में धमाकों के बाद कांग्रेस और बीजेपी के बीच सियासी धमाके थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। कांग्रेस जनरल सेक्रेटरी दिग्विजय सिंह ने बोधगया के धमाकों को ठीक एक दिन पहले गुजरात के वज़ीर ए आला नरेंद्र मोदी की बिहार के पार्टी कारकुनो से हुई बातचीत से जोड़कर नया तनाजा खड़ा कर दिया है।

इतना ही नहीं, उन्होंने अपनी ही हुकूमत की खुफिया एजेंसी आइबी पर भी सवाल उठा दिए हैं। उन्होंने बिहार की नीतीश सरकार की भी खिंचाई की है। जवाब में बीजेपी ने दिग्विजय को सिरफिरा बताते हुए उन्हें अपने दिमाग का इलाज कराने की सलाह दे डाली है। कांग्रेस के तरजुमान भक्त चरण दास ने दिग्विजय सिंह की ताइद करते हुए कहा कि उन्होंने जो कहा है वह गलत नहीं है।

बोधगया धमाकों के बाद इंडियन मुजाहिदीन का नाम आने पर सख्त एतराज जताते हुए दिग्विजय ने बीजेपी पर हमले की शुरुआत की थी। इतवार के दिन कांग्रेस जनरल सेक्रेटरी ने गैर‍ बीजेपी इक्तेदार वाली रियासत को होशियार रहने की सलाह देते हुए कहा था कि इलेक्शन जीतने के लिए बीजेपी दंगे करा सकती है।

इस पर बीजेपी ने तीखा रद्देअमल जताया, तो पीर के दिन दिग्विजय कुछ कदम और आगे चले गए। उन्होंने कहा कि बीजेपी इन धमाकों को फिर्कावाराना से जोड़ रही है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘रूड़ी ने कहा कि बीजेपी से अलग होने के दो हफ्ते के अंदर बिहार में कानून निज़ाम दरहम बरहम गई है।

रविशंकर प्रसाद ने दिल्ली पुलिस के हवाले से कहा कि पुणे धमाकों के मुल्ज़िम ने महाबोधि की रेकी की थी। मीडिया और बीजेपी ने आइबी ज़राए के हवाले से कहा कि यह म्यांमार वाकिया से जुड़ा है। बिहार हुकूमत ने आइबी की पहले दी गयी इत्तेला की अनदेखी की। क्या सभी मिलकर एक वाकिया पर सियासत नहीं कर रहे हैं। क्या वे बिना पूरी जांच के वाकिया में मुसलमानों के शामिल होने की बात नहीं कर रहे हैं।’

उन्होंने कहा कि कुछ भी नतीजा निकालने से पहले सभी को कौमी जांच एजेंसी (एनआइए) की जांच पूरी होने का इंतेजार करना चाहिए। उन्होंने इल्ज़ाम लगाया कि लोकसभा इलेक्शन के मद्देनजर बीजेपी और संघ मुल्क की सियासत को फिर्कावाराना रंग देना चाहते हैं। नीतीश कुमार की खिंचाई करते हुए उन्होंने कहा कि अगर आइबी ने पहले ही इत्तेला दी थी, तो रियासती हुकूमत को महाबोधि मंदिर की सेक्युरिटी निजी हाथों में नहीं छोड़नी चाहिए थी।

डॉ. मुरली मनोहर जोशी ने कहा, ‘दिग्विजय सिंह की आदत है कि जो कुछ नहीं है, वह भी देखते हैं। बोधगया के वाकिया को संजीदगी से लेना चाहिए, यह वाकिया पूरे मुल्क के लिए एक इंतेबाह है। मुज़हबी मुकामात पर खास नजर रखने की जरूरत है।

राज्यसभा के नायब रहनुमा व बीजेपी के सीनीयर लीडर रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस जनरल सेक्रेटरी से भी सभी वाकिफ हैं। उन्होंने साफ किया कि उन्होंने सिर्फ आइबी की बार-बार दी गई इत्तेला को अनदेखी करने की बात कही थी। वहीं, बिहार बीजेपी के लीडर गिरिराज सिंह ने तो दो टूक कहा कि दिग्विजय पागल हो गए हैं और उन्हें किसी पागलखाने में अपने दिमाग का इलाज कराना चाहिए।

‘अमित शाह ने अयोध्या में मंदिर की तामीर का वादा किया। मोदी ने बिहार के कारकुनो से नीतीश कुमार को सबक सिखाने की बात कही और अगले ही दिन बोधगया में धमाके हो गए। कहीं इनमें कोई कनेक्शन तो नहीं है।’

-दिग्विजय सिंह, कांग्रेस जनरल सेक्रेटरी

‘अब बीजेपी दिग्विजय सिंह के बयानों को संजीदगी से लेती ही नहीं है। किसी को उनके तब्सिरो पर ध्यान देने की जरूरत नहीं है। वह किसी सिरफिरे की तरह बात करते हैं।’

-अनंत कुमार, बीजेपी जनरल सेक्रेटरी

——-बशुक्रिया: जागरण

TOPPOPULARRECENT