Wednesday , December 13 2017

दिल्ली असेम्बली का इंदिरा गांधी स्टेडियम में ख़ुसूसी इजलास

हुकूमत दिल्ली की काबीना ने फ़ैसला किया है कि जन लोक पाल बिल पर मुबाहिस के लिए असेम्बली का एक ख़ुसूसी इजलास तलब किया जाये जो इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में इजलास के आख़िरी दिन मुनाक़िद किया जाएगा। काबीना ने फ़ैसला किया कि ओहदेदारों क

हुकूमत दिल्ली की काबीना ने फ़ैसला किया है कि जन लोक पाल बिल पर मुबाहिस के लिए असेम्बली का एक ख़ुसूसी इजलास तलब किया जाये जो इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में इजलास के आख़िरी दिन मुनाक़िद किया जाएगा। काबीना ने फ़ैसला किया कि ओहदेदारों को सज़ा भी दी जाएगी। ख़ुसूसी इजलास पहले तारीख़ी राम लीला मैदान पर मुनाक़िद किया जाने वाला था लेकिन अब उसे 16 फ़रव‌री को इंदिरागांधी इंडोर स्टेडियम में मुक़र्रर किया गया है।

रियासती वज़ीर मनीष सिसोदिया ने काबीना के इजलास के बाद कहा कि 13 ता 16 फ़रव‌री स्टेडियम में दिल्ली काबीना का इजलास मुनाक़िद होगा और आख़िरी दिन अवाम को शिरकत की इजाज़त होगी। आम आदमी पार्टी हुकूमत पहले एलान करचुके है कि पार्टी के अहम इंतेख़ाबी मौज़ूआत में से एक जन लोक पाल बिल पर मुबाहिस के बाद उसको मंज़ूरी दी जाएगी।

सरकारी ओहदेदारों के बमूजब लेफ्टिनेंट गवर्नर मजीद जंग से असेम्बली के ख़ुसूसी इजलास के इनीक़ाद की इजाज़त हासिल की जाएगी। दिल्ली की पुलिस राम लीला ग्रांऊड पर हुकूमत के इजलास की मुख़ालिफ़ थी जिसकी वजह से इसका मुक़ाम तबदील कर दिया गया है। समझा जाता है कि बदउनवानीयों के मुक़द्दमात की तहक़ीक़ात अंदरून छः माह मुकम्मल करली जाएगी और इसके बाद बदउनवान सरकारी ओहदेदारों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाएगी।

चीफ़ सेक्रेटरी की ज़ेर-ए-क़ियादत एक कमेटी क़ायम की जाएगी जिस में शहरी तर्क़ियात, क़ानून और फाईनानस के महिकमों के मोतमिद यन के इलावा क़ानूनदां राहुल मोहरा को जन लोक पाल बिल का मुसव्वदा तैयार करने की ज़िम्मेदारी दी जाएगी। चीफ़ मिनिस्टर दिल्ली अरविंद केजरीवाल ने बर्क़ी तवानाई फ़राहम करनेवाली कंपनीयों पर इल्ज़ाम आइद किया कि वो रोज़ाना सिर्फ़ 10 घंटे बर्क़ी तवानाई सरबराह करने की धमकी देते हुए हुकूमत को ब्लैकमेल करने की कोशिश कररही हैं।

उन्होंने इंतिबाह दिया कि इन तमाम कंपनीयों के ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई की जाएगी जिस में उनके लाईसैंस मंसूख़ करदेने की कार्रवाई भी शामिल होगी। चीफ़ मिनिस्टर ने कहा कि टाटा और अंबानी जो दिल्ली में बर्क़ी तवानाई की तरसील की कंपनीयां चलाते हैं, मुल्क में दस्तयाब वाहिद कंपनीयां नहीं हैं। हुकूमत इस मैदान में दूसरी कंपनीयों को लाने से गुरेज़ नहीं करेगी।

उन्होंने कहा कि बर्क़ी सरबराही मुनक़ते करने की या इस में तख़फ़ीफ़ करने की कोई वजह नहीं है। वो उन कंपनीयों को इंतिबाह दे रहे हैं कि मुस्तक़बिल में दहश्त फैलाने की किसी भी कोशिश को हुकूमत बर्दाश्त नहीं करेगी और उन कंपनीयों के ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई करेगी। उन्होंने ऐसे इंतिहाई इक़दामात की कोई बुनियादी वजह ना होने के इमकानात को खारिज‌ करते हुए कहा कि बर्क़ी सरबराही के सिलसिले में कई एतराज़ात किए जा सकते हैं। वो सी ए जी यूनिट से भी तआवुन नहीं कररहे हैं।

TOPPOPULARRECENT