Wednesday , September 26 2018

आज़ादी: हमने भुला दिए उन मुस्लिम स्वतंत्रता सेनानीयों को जिन्होंने दी कुर्बानी!

पंद्रह अगस्त 1947 को देश ब्रिटिश हुकूमत से आजाद होकर एक स्वतंत्र राज्य बना था। ब्रिटिश हुकूमत से आजादी दिलाने में अनगिनत स्वतंत्रता सेनानियों ने जान की कुरबानी दी। जब भी स्वतंत्रा सेनानियों की बात आती हैं तो मुस्लिम नामों में सिर्फ ‘अशफ़ाक़ उल्लाह खान’ का नाम लोगों के जहन में आता है, लेकिन ऐसा नहीं है कि वह एकमात्र मुस्लिम थे, जिन्होंने देश को आजाद कराने के लिए अपने प्राणों को न्यौछावर किया।

आपको बता दें कि इतिहास के पन्नों में अनगिनत मुस्लिम हस्तियों के नाम दबे पड़े हैं, जिन्होने भारतीय स्वतंत्रा आंदोलन में अपने जीवन का बहुमूल्य योगदान दिया जिनकों या तो भूला दिया गया या फिर हमें सुनने को नहीं मिलता।

शाह अब्दुल अजीज
1772 में शाह अब्दुल अजीज ने अंग्रेज़ो के खिलाफ जेहाद का फतवा दे दिया ( हमारे देश का इतिहास 1857 की मंगल पांडे की क्रांति को आज़ादी की पहली क्रांति मन जाता हैं) जबकि सचाई यह है कि शाह अब्दुल अजीज पहले ही जेहाद के जरिए अंग्रेज़ो को देश से निकालो और आज़ादी हासिल करो का फतवा दे चुके थे।

हैदर अली और टीपू सुल्तान
हैदर अली और बाद में उनके बेटे टीपू सुल्तान ने ब्रिटिश इस्ट इंडिया कंपनी के प्रारम्भिक खतरे को समझा और उसका विरोध किया। टीपू सुल्तान एक ऐसा योद्धा भी था, जिसकी दिमागी सूझबूझ और बहादुरी ने कई बार अंग्रेजों को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया। अपनी वीरता के कारण ही वह ‘शेर-ए-मैसूर’ कहलाए।

बहादुर शाह ज़फ़र
बहादुर शाह ज़फ़र (1775-1862) भारत में मुग़ल साम्राज्य के आखिरी शहंशाह थे और उर्दू भाषा के माने हुए शायर थे। उन्होंने 1857 का प्रथम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में भारतीय सिपाहियों का नेतृत्व किया। इस जंग में हार के बाद अंग्रेजों ने उन्हें बर्मा (अब म्यांमार) भेज दिया, जहां उनकी मृत्यु हुई।

ग़दर आंदोलन
गदर पार्टी का हैड क्वार्टर सैन फ्रांसिस्को में स्थापित किया गया, भोपाल के बरकतुल्लाह ग़दर पार्टी के संस्थापकों में से एक थे जिसने ब्रिटिश विरोधी संगठनों से नेटवर्क बनाया था। ग़दर पार्टी के सैयद शाह रहमत ने फ्रांस में एक भूमिगत क्रांतिकारी रूप में काम किया और 1915 में असफल गदर (विद्रोह) में उनकी भूमिका के लिए उन्हें फांसी की सजा दी गई। फैजाबाद (उत्तर प्रदेश) के अली अहमद सिद्दीकी ने जौनपुर के सैयद मुज़तबा हुसैन के साथ मलाया और बर्मा में भारतीय विद्रोह की योजना बनाई और 1917 में उन्हें फांसी पर लटका दिया गया था।

खुदाई खिदमतगार मूवमेंट
लाल कुर्ती आन्दोलन भारत में पश्चिमोत्तर सीमान्त प्रान्त में ख़ान अब्दुल ग़फ़्फ़ार ख़ान द्वारा भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के समर्थन में खुदाई ख़िदमतगार के नाम से चलाया गया जोकि एक ऐतिहासिक आन्दोलन था। विद्रोह के आरोप में उनकी पहली गिरफ्तारी 3 वर्ष के लिए हुई थी। जेल से बाहर आकर उन्होंने पठानों को राष्ट्रीय आन्दोलन से जोड़ने के लिए ‘ख़ुदाई ख़िदमतग़ार’ नामक संस्था की स्थापना की और अपने आन्दोलनों को और भी तेज़ कर दिया।

अलीगढ़ आन्दोलन
सर सैय्यद अहमद खां ने अलीगढ़ मुस्लिम आन्दोलन का नेतृत्व किया। वे अपने सार्वजनिक जीवन के प्रारम्भिक काल में राजभक्त होने के साथ-साथ कट्टर राष्ट्रवादी थे। उन्होंने हमेशा हिन्दू-मुस्लिम एकता के विचारों का समर्थन किया।

नजीर अहमद, चिराग अली, अल्ताफ हुसैन, मौलाना शिबली नोमानी जैसे सैकड़ों मुसलमान थे, जिन्होंने भारत की आज़ादी की लड़ाई में अपने जीवन को कुर्बान कर देश को आज़ाद कराया। इतना ही नहीं मुस्लिम महिलाओ में बेगम हजरत महल, अस्घरी बेगम, बाई अम्मा ने ब्रिटिश के खिलाफ स्वतंत्रता के संघर्ष में योगदान दिया है।

साभार- ‘न्यूज़ 24’

TOPPOPULARRECENT