Sunday , January 21 2018

दिल्ली इंतेखाबात : किसके खाते में जाएंगे मुस्लिम वोट ?

दिल्ली में इलेक्शन को ज्यादा वक्त नहीं बचा है। 7 फरवरी को होने वाली रायदही ( वोटिंग) से पहले सभी पार्टियां अपना पूरा जोर लगा रही हैं, माहिरीन मानते हैं कि दिल्ली में मुकाबला बीजेपी और आम आदमी पार्टी के बीच ही है।

दिल्ली में इलेक्शन को ज्यादा वक्त नहीं बचा है। 7 फरवरी को होने वाली रायदही ( वोटिंग) से पहले सभी पार्टियां अपना पूरा जोर लगा रही हैं, माहिरीन मानते हैं कि दिल्ली में मुकाबला बीजेपी और आम आदमी पार्टी के बीच ही है।

सबकी नजर इस बात पर है कि मुस्लिम वोटर्स किस पार्टी को वोट देता है। दिल्ली में मुस्लिम वोटर्स की तादाद तकरीबन 11 फीसदी है, जो दिल्ली की 70 में से आठ सीटों के नतीजों को सीधे तौर पर मुतास्सिर करने की ताकत रखती है।

सेंट्रल दिल्ली की तीन और ईस्ट दिल्ली की पांच सीटों पर 35 से 40 फीसदी वोटर मुस्लिम हैं। पिछली बार कांग्रेस के आठ एमएलए में से चार एमएलए इन्हीं सीटों से जीते थे, लेकिन इस बार कांग्रेस को यह डर सता रहा है कि बीजेपी से सीधे टक्कर में न होने की वजह से कहीं उनका यह वोट बैंक आम आदमी के झोली में न चला जाए।

जहां इस बार कांग्रेस ने 70 में से छह सीटों पर मुस्लिम उम्मीदवारों को उतारा है, वहीं आम आदमी पार्टी की टिकट पर पांच मुस्लिम उम्मीदवार मैदान में हैं, जबकि बीजेपी ने सिर्फ एक मुसलमान उम्मीदवार को मटिया महल से टिकट दिया है। दिल्ली में मुकाबला कांटे का है, ऐसे में एक-एक वोट सभी पार्टियों के लिए अहमियत रखता है।

TOPPOPULARRECENT