Friday , December 15 2017

दिल्ली इस्मत रेज़ि की तहक़ीक़ात के लिए कमीशन का क़ियाम

नई दिल्ली, 27 दिसंबर: (पीटीआई) दिल्ली हाइकोर्ट के साबिक़ जज की ज़ेर-ए-क़ियादत एक कमीशन क़ायम किया जाएगा जो दिल्ली में इजतिमाई इस्मत रेज़ि वाक़िया की तहक़ीक़ात करेगा। मर्कज़ी हुकूमत ने आज मुतास्सिरा लड़की के बयान के इंदिराज के दौरान पुलि

नई दिल्ली, 27 दिसंबर: (पीटीआई) दिल्ली हाइकोर्ट के साबिक़ जज की ज़ेर-ए-क़ियादत एक कमीशन क़ायम किया जाएगा जो दिल्ली में इजतिमाई इस्मत रेज़ि वाक़िया की तहक़ीक़ात करेगा। मर्कज़ी हुकूमत ने आज मुतास्सिरा लड़की के बयान के इंदिराज के दौरान पुलिस की दख़ल अंदाज़ी के इल्ज़ामात की तहक़ीक़ात भी इसी कमीशन के सुपुर्द करने का फ़ैसला किया है।

चीफ़ मिनिस्टर दिल्ली शीला दिक्षित के पुलिस पर इस इल्ज़ाम से एक बड़ा तनाज़ा पैदा हो गया था। वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह की ज़ेर-ए-सदारत मर्कज़ी काबीना का एक इजलास मुनाक़िद किया गया, जिसमें फ़ैसला किया गया कि रिटायर्ड जस्टिस ऊषा मोहरा की ज़ेर-ए-क़ियादत एक रुकनी कमीशन क़ायम किया जाएगा, जो इन कोताहियों की निशानदेही करेगा, जिनकी वजह से 23 साला लड़की की जुनूबी दिल्ली में 16 दिसंबर की रात चलती हुई बस में इजतिमाई इस्मत रेज़ि की गई।

कमीशन उस की ज़िम्मेदारी भी आइद करेगा। कमीशन दिल्ली और एन सी आर को ख़वातीन के लिए महफ़ूज़ बनाने के इक़दामात तजवीज़ करेगा। कमीशन अंदरून 3 माह अपनी रिपोर्ट पेश कर देगा, जिसे हुकूमत की जानिब से की हुई कार्रवाई की रिपोर्ट के साथ पार्लीमेंट में पेश किया जाएगा।

मर्कज़ी काबीना के इजलास के बाद एक कान्फ्रेंस में कमीशन के क़ियाम के फ़ैसला का ऐलान करते हुए मर्कज़ी वज़ीर फायनेंस पी चिदम़्बरम ने कहा कि ये शर्मनाक मुआमला है कि ऐसा वाक़िया दिल्ली में पेश आया है। उन्होंने कहा कि मर्कज़ी हुकूमत पर ख़ुसूसी ज़िम्मेदारी आइद होती है।

काबीना के इजलास में कई वुज़रा ने इस होलनाक जुर्म पर अपनी तशवीश ज़ाहिर की और कहा कि हुकूमत को ख़ातियों की गिरफ़्तारी को यक़ीनी बनाने और ख़वातीन में तहफ़्फ़ुज़ का एहसास बहाल करने के लिए ख़ुसूसी इक़दामात करने होंगे। मर्कज़ी वज़ीर-ए-दाख़िला सुशील कुमार शिंदे ने इजलास में वाक़िया की तफ़सीलात बयान कीं और सूरत-ए-हाल को मामूल पर लाने के लिए जो इक़दामात किए गए थे उनका भी तफ़सीली तज़किरा किया।

चीफ़ मिनिस्टर दिल्ली शीला दिक्षित के इल्ज़ामात के बारे में कि दिल्ली पुलिस के ओहदेदार इस्मत रेज़ि की मुतास्सिरा के बयान के इंदिराज के अमल के दौरान दख़ल अंदाज़ी कर रहे थे, मर्कज़ी वज़ीर फायनेंस पी चिदम़्बरम ने कहा कि मर्कज़ी वज़ीर-ए-दाख़िला सुशील कुमार शिंदे काबीना में बयान दे चुके है कि एक सीनीयर ओहदेदार की जानिब से दाख़िली तहक़ीक़ात का हुक्म दिया जा चुका है।

हुकूमत दिल्ली के साथ तनाज़ा में इज़ाफ़ा के बाद दिल्ली के पुलिस कमिशनर नीरज कुमार ने मर्कज़ी वज़ारत-ए-दाख़िला को मकतूब रवाना करते हुए इल्ज़ामात की तरदीद की थी कि पुलिस मुतास्सिरा लड़की के बयान के मजिस्ट्रेट की जानिब से इंदिराज में मुदाख़िलत की थी।

पुलिस कमिशनर पर दबाव में इज़ाफ़ा करते हुए दिल्ली के चीफ़ सेक्रेटरी पी के त्रिपाठी ने रियास्ती काबीना के इजलास के बाद कहा था कि नीरज कुमार को मजिस्ट्रेट की कारकर्दगी पर तब्सिरा करने का कोई इख्तेयार नहीं है। मजिस्ट्रेट ने शिकायत की है कि बयान दर्ज करते वक़्त पुलिस मुदाख़िलत कर रही थी।

इस्मत रेज़ि की मुतास्सिरा लड़की की हालत गुज़शता रात अबतर हो गई थी। उसकी नब्ज़ धड़कने की शरह में नुमायां कमी हुई थी। ताहम वो जल्द ही बहाल भी हो गई। मुतास्सिरा लड़की की हालत हनूज़ नाज़ुक लेकिन मुस्तहकम है। सफदरगंज हॉस्पिटल में इसका ईलाज करने वाले डाक्टरों ने कहा कि उसे अब भी शदीद निगहदाश्त के शोबा (आई सी यू) में मस्नूई आलात तनफ़्फ़ुस पर रखा गया है।

16 दिसंबर को जुनूबी दिल्ली के इलाक़ा में चलती हुई बस में मुबय्यना तौर पर 6 अफ़राद ने 23 साला तालिबा की इसके मर्द साथी की मौजूदगी में इजतिमाई इस्मत रेज़ि की थी और बादअज़ां लड़की और इसके दोस्त को चलती बस से बाहर फेंक दिया गया था।

TOPPOPULARRECENT