दिल्ली का अस्पताल है या मुर्दों की बस्ती

दिल्ली का अस्पताल है या मुर्दों की बस्ती
नई दिल्ली, 18 अप्रैल: मासूमों की मौत के मामले में दीनदयाल उपाध्‍याय अस्‍पताल का नाम सामने आया है | पिछले 6 सालों में इस अस्पताल में 4100 बच्चों ने दम तोड़ दिया |

नई दिल्ली, 18 अप्रैल: मासूमों की मौत के मामले में दीनदयाल उपाध्‍याय अस्‍पताल का नाम सामने आया है | पिछले 6 सालों में इस अस्पताल में 4100 बच्चों ने दम तोड़ दिया |

मगरिबी दिल्ली की नब्ज कहे जाने वाले अस्पताल दीनदयाल उपाध्याय की खुद अपनी नब्ज थम रही है | जिसका काम है मरीजों का इलाज करना उस अस्पताल को आज खुद इलाज की जरुरत है | जिन्दगी देने वाला अस्पताल आज खुद रूक-रूक कर सांस ले रहा है|

आरटीआई से ये बात सामने आई है कि 2007 से साल 2012 के अक्टूबर तक यानी पिछले 6 साल में यहां 4100 से ज्यादा बच्चों की मौत हुई है. यानी ये अस्पताल हर रोज करीब दो बच्चों को निगल जाता है| सिर्फ इतना ही नहीं आरटीआई के मुताबिक इस अस्पताल में बच्चों पर क्लीनिकल ट्रायल भी होते है |

सिर्फ इतना ही नहीं नोमुलूद बच्चों के खास केयर के लिए बनी नर्सरी में भी मौतों का सिलसिला चौकाने वाला है| यहां पिछले 6 साल में करीब 1922 नोमुलूद बच्चों की नर्सरी में मौत हुई है|

कैग रिपोर्ट ने दिल्ली हुकूमत के अस्पतालों में तेजी से फैल रहे बंदइतामी और लापरवाही के वायरस की पोल खोल दी है| जल्दी ही इस इन्फेक्शन का इलाज जरुरी है क्योंकि हर रोज हो रही है यहां किसी ना किसी मासूम की मौत|

इस अस्पताल की दिल्ली को कितनी जरूरत है इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पिछले 6 साल में यहां 52 हजार से ज्यादा डिलीवरी हुई है| लेकिन इंफ्रास्ट्रक्चर की कमी से ये अस्पताल लोगों को खुशिया कम गम ज्यादा दे रहा है| यहां सिर्फ 12 वेंटिलेटर हैं| अब आप खुद अंदाजा लगा लीजिए जहां हर साल 8 से 12 हजार तक डिलीवरी होती है वहां नवजातों को बचाने के लिए क्या ये वेंटिलेटर काफी हैं |

आरटीआई दरखास्तगुज़ार का इल्ज़ाम है कि वेंटिलेटर की कमी की वजह से ही यहां बच्चों का दम घुटता है |

कुछ ऐसे ही आंकड़े मशरिकी दिल्‍ली के चाचा नेहरू बाल हास्पिटल चिकित्‍सालय से भी सामने आया है| आरटीआई से मिले आंकड़ों के मुताबिक चाचा नेहरू बाल हास्पिटल में 6 साल में 4400 बच्चों की मौत हुई | इस आंकड़े के मुताबिक हर रोज दो से ज्यादा बच्चों की मौत यहां होती है |

————-बशुक्रिया: आज तक

Top Stories