Saturday , December 16 2017

दिल्ली में ममता बनर्जी का घेराव‌ वज़ीर फ़ैनांस बंगाल अमीत मिश्रा से बदसुलूकी

नई दिल्ली, 10 अप्रेल: मग़रिबी बंगाल की चीफ मिनिस्टर ममता बनर्जी और उन के वज़ीर फ़ैनांस अमीत मिश्रा आज सी पी एम और उस की तलबा तंज़ीम एस एफ आई के कारकुनों की ब्रहमी का निशाना बने। वज़ीरे फ़ैनांस अमीत मिश्रा से उन कारकुनों ने मंसूबा बंदी कमीशन

नई दिल्ली, 10 अप्रेल: मग़रिबी बंगाल की चीफ मिनिस्टर ममता बनर्जी और उन के वज़ीर फ़ैनांस अमीत मिश्रा आज सी पी एम और उस की तलबा तंज़ीम एस एफ आई के कारकुनों की ब्रहमी का निशाना बने। वज़ीरे फ़ैनांस अमीत मिश्रा से उन कारकुनों ने मंसूबा बंदी कमीशन के दफ़्तर के बाहर बदसुलूकी की। तक़रीबा 150 सी पी एम और इस एफ आई कारकुनों ने चीफ मिनिस्टर और दूसरों का तआक़ुब भी किया जिन में मिश्रा भी शामिल थे। ये लोग कल‌ सेपहर 3.45 बजे मंसूबा बंदी कमीशन के कामप्लेक्स पहुंच रहे थे ताकि रियासत के सालाना मंसूबे को क़तईयत दी जा सके।

ममता बनर्जी को पुलिस ने मश्वरा दिया था कि वो अपनी कार से ना उतरें और अंदर तक कार में जाएं। लेकिन‌ उन्होंने कार से बाहर ही उतरने और नारा लगाते हुए हुजूम के सामने से पैदल गुज़र कर इमारत में जाने का फैसला किया। चीफ मिनिस्टर को पुलिस ने फ़ौरी अपने घेरे में लेकर बचा लिया,लेकिन‌ मिश्रा को इन कारकुनों की ब्रहमी का सामना करना पड़ा जो कोलकता में गुज़िश्ता हफ़्ते एक एस एफ आई कारकुन सुदीप्तो गुप्ता की मौत के ख़िलाफ़ एहतिजाज कर रहे थे।

एस एफ आई और सी पी एम कारकुन ममता बनर्जी हाय हाय टी एम सी हाय हाय,हथियारी ममता श्रम करो,के नारे लगा रहे थे। इस पर ममता बनर्जी ब्रहम होगईं और वो ये कहते हुए इमारत में दाख़िल होगईं कि ये गैर मुहज़्ज़ब तरीका कार है। वज़ीर फ़ैनांस मिश्रा जब योजना भवन की इमारत में दाख़िल होने की कोशिश कर रहे थे उन कारकुनों ने उन्हें घेर लिया, उन्हें ढकेला गया और उन के कपड़े फाड़ दिए गए। उन के सीने पर दो मर्तबा धक्के लगाए गए और उन का कुर्ता फट गया।

ब्रहम ममता बनर्जी ने बाद में मिनिस्टर आफ़ इस्टेट मंसूबा बंदी राजीव शुक्ला और मंसूबा बंदी कमीशन के नायब सदर नशीन मोनतेक सिंह अहलुवालिया पर अपनी ब्रहमी उतारी। उन्होंने कहा कि आप लोगों ने यहां नई मिसाल क़ायम की है। मेरे वज़ीर पर हमला किया गया है। ये स्कैंडल है। 20 गुंडा अनासिर थे। क्या आप इस तरह से रियासत की तरक़्क़ी को रोक सकते हैं? दिल्ली महफ़ूज़ नहीं है। नाक़िस इंतिज़ामात पर ममता बनर्जी ने दिल्ली पुलिस पर भी तन्क़ीद की।

राजीव शुक्ला ने बादअज़ां सहाफ़ियों से बात चीत करते हुए कहा कि हुकूमत इस वाक़िये की सख़्त तरीन अलफ़ाज़ में मज़म्मत करती है और मुताल्लिक़ा अमला ने ये मामला पुलिस से रुजू करदिया है। इजलास के बाद ममता बनर्जी ने इद्दिआ किया कि इन कारकुनों ने लोहे की सलाख से उन पर हमले की कोशिश की थी,लेकिन वो महफ़ूज़ रहीं।

उन्होंने कहा कि उन्हें इस तरह की गुंडा गर्दी की उम्मीद नहीं थी। उन्हें वज़ीरे आज़म और वज़ीर फ़ैनांस से मुलाक़ात का हक़ है। अगर इस तरह के वाक़ियात होते हैं तो मंसूबा बंदी कमीशन में इजलास नहीं हो सकेंगे। एस एफ आई के जनरल सेक्रेटरी आड़ बनर्जी ने तरदीद की कि मुज़ाहिरीन ने मिश्रा से बदसुलूकी की है। उन्होंने कहा कि ये एक अस्करी लेकिन पुरअमन मुज़ाहिरा था। हम ने किसी के साथ बदसुलूकी नहीं की और ना ही उन के कपड़े फाड़े।

हम चाहते हैं कि गुप्ता के क़त्ल की तहकीकात की जाये। हम हर उस जगह एहतिजाज करेंगे जहां ममता बनर्जी जाएंगी। अमीत मिश्रा से बदसुलूकी पर दिल्ली पुलिस ने ना मालूम अफ़राद के ख़िलाफ़ मुक़द्दमा दर्ज करलिया है।

TOPPOPULARRECENT