Saturday , December 16 2017

दिल्ली में मुख़ालिफ़ फ़िर्क़ावारीयत गैर कांग्रेसी,गैर बी जे पी कनवेनशन

तृणमूल कांग्रेस, बी एस पी और वाई एस आर कांग्रेस का गैर हाज़िरी का फैसला

तृणमूल कांग्रेस, बी एस पी और वाई एस आर कांग्रेस का गैर हाज़िरी का फैसला

मुक़ामी सियासत की मजबूरियां गैर कांग्रेसी और गैर बी जे पी पार्टियों के मुजव्वज़ा इत्तिहाद के रास्ते में रुकावट बन गई है। आइन्दा लोक सभा इंतेख़ाबात से क़बल तृणमूल कांग्रेस , बी एस पी और वाई एस आर कांग्रेस पार्टियों ने 30 अक्टूबर के मुख़ालिफ़ फ़िर्क़ावारीयत कनवेनशन में जो दिल्ली में मुक़र्रर है, गैर हाज़िर होने का फैसला किया है। चार बाएं बाज़ू की पार्टियां , अन्ना डी एम के , जनता दल (यू) , समाजवादी पार्टी , बीजू जनता दल, जनता दल (एस) , नागा पीपल्ज़ फ्रंट, सिक्किम डेमोक्रेटिक फ़रांट, झारखंड विकास मोरचा और आर पी आई (प्रकाश अंबेडकर) से 30 अक्टूबर के मुख़ालिफ़ फ़िर्कापरस्ती कनवेनशन और अवामी इत्तिहाद के लिए इत्तिहाद कर चुकी है।

ज़राए ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस इस लिए शामिल नहीं हो रही है कि मग़रिबी बंगाल में इस के कट्टर हरीफ़ बाएं बाज़ू की पार्टियां इस कनवेनशन की रूह रवां हैं। इसी तरह मायावती की बी एस पी कनवेनशन में इस लिए शिरकत नहीं करेगी कि उसकी कट्टर हरीफ़ समाजवादी पार्टी इस कनवेनशन में नुमायां हैसियत रखती है। ज़राए का ये भी कहना है कि बाअज़ पार्टियां वाई एस जगन मोहन रेड्डी की वाई एस आर कांग्रेस (आंध्रप्रदेश) को भी कनवेनशन में शिरकत की दावत देना चाहती थीं लेकिन सी पी आई ने उसकी मुख़ालिफ़त की क्योंकी रियासत में सी पी आई जगन मोहन रेड्डी के ख़िलाफ़ मुहिम चला रही है।

एक लीडर ने जो इस कनवेनशन के इंतेज़ाम में अहम किरदार अदा कर रहे हैं, कहा कि वो तमाम गैर कांग्रेसी और गैर बी जे पी पार्टियों को एक प्लेटफार्म पर मुत्तहिद करना चाहते हैं लेकिन हमारा मुल्क मुतनव्वे है, कई मसाइल हैं इस लिए हमें ख़ुशी है कि ज़्यादा से ज़्यादा सियासी पार्टियां कान्फ्रेंस में शिरकत कर रही है। पी डी पी की सीनियर‌ क़ाइद महबूबा मुफ़्ती इस कनवेनशन में शिरकत करनेवाली थीं लेकिन इनका मंसूबा मंसूख़ करदिया गया है। क़बल अज़ीं समझा जा रहा था कि टी डी पी के सदर चंद्र बाबू नायडू को भी मदऊ किया जा रहा है लेकिन बी जे पी से उनके क़ुरबत के पेशे नज़र उन्हें नजरअंदाज़ कर दिया गया।

TOPPOPULARRECENT