Thursday , December 14 2017

दिल्ली में सौ इबादतगाहों का सरकारी आराज़ी पर क़ब्ज़ा

पार्लीमैंट की एक कमेटी के मुताबिक़ दिल्ली में सौ से ज़्यादा मज़हबी इबादतगाहों ने सरकारी ज़मीन पर नाजायज़ क़ब्ज़ा कर रखा है जिनमें मंदिरों की तादाद सब से ज़्यादा है। शहरी तरक़्क़ी वज़ारत के तहत दफ़्तर अराज़ी-ओ-तरक़्क़ी के काम काज पर पब्ल

पार्लीमैंट की एक कमेटी के मुताबिक़ दिल्ली में सौ से ज़्यादा मज़हबी इबादतगाहों ने सरकारी ज़मीन पर नाजायज़ क़ब्ज़ा कर रखा है जिनमें मंदिरों की तादाद सब से ज़्यादा है। शहरी तरक़्क़ी वज़ारत के तहत दफ़्तर अराज़ी-ओ-तरक़्क़ी के काम काज पर पब्लिक एकाऊंट कमेटी (पी ए सी) की 59वीं रिपोर्ट में 106 मज़हबी मुक़ामात में से 91वीं ने नई दिल्ली म्यूनसिंपल कारपोरेशन और पंद्रह ने एल ऐंड डी ओ की ज़मीन पर नाजायज़ क़ब्ज़ा कर रखा है।

इन में से 83 मंदिर , पंद्रह मस्जिद दरगाह और मज़ारात , पाँच गुरूद्वारे और तीन गिरजाघर हैं। भारतीय जनता पार्टी के एम पी मुरली मनोहर जोशी की ज़ेर क़ियादत पी ए सी की रिपोर्ट के मुताबिक़ पिछले दस बरसों में 186 मुआमलों में दिल्ली की 42555 एकड़ ज़मीन पर नाजायज़ क़ब्ज़ा किया गया है और पिछले पाँच बरसों में सिर्फ 32 नाजायज़ क़ब्ज़े हटाए गए हैं।

कमेटी ने निहायत बेश क़ीमत सरकारी ज़मीन पर नाजायज़ क़ब्ज़ा को नाक़ाबिल-ए-क़बूल क़रार देते हुए हुकूमत से उसे जल्द से जल्द ख़ाली कराने को कहा है।कमेटी ने मज़हबी मुक़ामात के इलावा सड़कों , फुटपाथों , पार्कों और सर सब्ज़ इलाक़ों पर क़ाबिज़ लोगों का पानी बिजली कनेक्शन काटने के साथ ही नाजायज़ क़ब्ज़ा के ज़िम्मा अहलकारों के ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई करने की सिफ़ारिश की है।

TOPPOPULARRECENT