Tuesday , December 12 2017

दिल्ली सरकार अपने स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों के माता-पिता के लिए ‘पेरेंट वर्कशॉप’ की करेगी शुरूआत

नई दिल्ली: दिल्ली सरकार सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों के माता-पिता के लिए ‘पेरेंट वर्कशॉप’ की शुरूआत कर रही है। शहर के 50 स्कूलों में वर्कशॉप का पहला सेट 15 नवंबर से शुरू होगा।

शुरुआत में, वर्कशॉप शाम को स्कूल में कक्षा 10 और 12 बोर्ड की परीक्षाओं में भाग लेने वाले बच्चों के माता-पिता के लिए ही आयोजित की जाएगी। इस कार्यक्रम का एक पूर्ण रोल-आउट जनवरी 2018 से शुरू होगा।

उपमुख्यमंत्री मनीश सिसोदिया ने इस पहल का शुभारंभ करते हुए कहा, “बच्चों की शिक्षा में माता-पिता की भागीदारी उनके प्रदर्शन में महत्वपूर्ण अंतर है। हमारी सरकार ने स्कूल के बुनियादी ढांचे में सुधार लाने और कक्षा के अनुभव की गुणवत्ता में सुधार जैसे कई मोर्चों पर काम किया है। ‘पेरेंट वर्कशॉप्स’ का उद्देश्य बच्चों के घरों में भी सही प्रकार के माहौल को बनाने में मदद करने के लिए माता-पिता के साथ काम करना है। विशेषकर, कक्षा 10 और 12 में पढ़ रहे बच्चों के लिए, माता-पिता को उनके तनाव को कम करने के लिए बच्चों के साथ सहयोगी भूमिका निभाने के लिए संवेदीकरण किया जाएगा।”

दिल्ली सरकार ने माता-पिता को उनके शिक्षा से संबंधित सुधारों का एक महत्वपूर्ण घटक बना दिया है। स्कूल प्रबंधन समितियों (एसएमसी) को मजबूत करने से स्कूलों के कामकाज में गंभीर भूमिका निभाने के लिए माता-पिता को एकजुट करने और सक्रिय करने में मदद मिली है। इससे भी महत्वपूर्ण बात, पैरेंट टीचर मीटिंग जुलाई 2016 से शुरू हुई थी, जिसने माता-पिता की इंगेजमेंट को काफी हद तक बढ़ाया है। इन हस्तक्षेपों के परिणाम पिछले दो वर्षों में बच्चों के प्रदर्शन में देखा गया है।

दिल्ली सरकार का लक्ष्य है कि इन वर्कशॉप के माध्यम से माता-पिता तक पहुंचें ताकि उन्हें स्कूल और शिक्षकों के समान पृष्ठ पर ले जा सकें। माता-पिता उनके बच्चों की शिक्षा के बारे में उन्मुख होंगे और यह सुनिश्चित करने के लिए उनकी भूमिका क्या होनी चाहिए कि बच्चों को स्कूल में बेहतर सीख मिले।

TOPPOPULARRECENT