Friday , January 19 2018

दिसंबर तक हर गांव में बिजली

दिसंबर तक रियासत के हर गांव में बिजली की फराहम बहाल कर दी जायेगी। ग्रामीण विद्युतीकरण के तहत अभी दो हजार गांवों में बिजली पहुंचाना बाक़ी है, इस पर काम जारी है।

दिसंबर तक रियासत के हर गांव में बिजली की फराहम बहाल कर दी जायेगी। ग्रामीण विद्युतीकरण के तहत अभी दो हजार गांवों में बिजली पहुंचाना बाक़ी है, इस पर काम जारी है।

दिसंबर तक यह काम कर पूरा लिया जायेगा। यौमे आज़ादी के मौके पर धुर्वा वाकेय रियासत बिजली बोर्ड हेड क्वार्टर में परचम फहराने के बाद बोर्ड के सादर एसएन वर्मा ने यह बात कही। मिस्टर वर्मा ने कहा कि ट्रांसमिशन लाइन का काम तेजी से चल रहा है। एलएंडटी और ग्रीव्स जैसी कंपनियां यह काम कर रही हैं। पतरातू में 1320 (2×660) मेगावाट कैपेसीटी वाले पावर प्लांट के तौसीह के लिए इसी महीने टेंडर निकाला जायेगा।

उन्होंने कहा कि रियासत में बिजली की हालत पहले से बेहतर है। मुल्क के दूसरे मुकामों के मुक़ाबले इसे इतमीनान बख्श कहा जा सकता है। रियासत को जितनी बिजली चाहिए, उतनी मौजूद है। यह सब बेहतर बोर्ड के अहलकारों के महदूद होकर काम करने की बदौलत हुआ है। बिजली की चोरी में कमी आयी है और आमदनी बढ़ा है। पहले के मुक़ाबले में हर महीने 90-100 करोड़ रु ज़्यादा आमदनी की उगाही हो रही है। सदर ने तमाम मुलाज़मीन को यौमे आज़ादी की मुबारकबाद भी दी।

TOPPOPULARRECENT