Wednesday , December 13 2017

दीनी इनामी मुक़ाबला कूपनों की क़ुरआ अंदाज़ी

रियाज़ में मुक़ीम हैदराबादी अहबाब और इदारा सियासत की जानिब से माह रमज़ानुल मुबारक में शाय होने वाले दीनी इनामी मुक़ाबला कूपनों की क़ुरआ अंदाज़ी महबूब हुसैन जिगर हाल अहाता रोज़नामा सियासत में अमल में आई।

रियाज़ में मुक़ीम हैदराबादी अहबाब और इदारा सियासत की जानिब से माह रमज़ानुल मुबारक में शाय होने वाले दीनी इनामी मुक़ाबला कूपनों की क़ुरआ अंदाज़ी महबूब हुसैन जिगर हाल अहाता रोज़नामा सियासत में अमल में आई।

इस दौरान सामईन से ख़िताब करते हुए मौलाना सैयद ज़ुबेर हाश्मी उस्ताद जामिआ निज़ामीया हैदराबाद ने कहा कि अल्लाह के रसूल सल्लल्लाह अलैहि वसल्लम ने ईमान के तक़रीबन सत्तर दर्जे ब्यान फ़रमाए हैं, जिन में पहला दर्जा ला ईलाहा इल्लल्लाह का विर्द और इक़रार है, जब कि आख़िरी दर्जा ये है कि रास्ता से तकलीफ़ देह चीज़ हटा दी जाए।

पहले और तीसरे इनाम की क़ुरआ अंदाज़ी मशहूर कालम निगार जनाब मुज्तबा हुसैन और दूसरे और चौथे इनाम की क़ुरआ अंदाज़ी मौलाना सैयद ज़ुबेर हाश्मी ने अंजाम दी, इलावा अज़ीं हाज़िरीन ने भी हिस्सा लेते हुए 80 लिफाफों की क़ुरआ अंदाज़ी की।

इस मौक़ा पर एडीटर सियासत जनाब ज़ाहिद अली ख़ान और जनाब मीर शुजाअत अली जेनरल मैनेजर सियासत भी मौजूद थे, जब कि निज़ामत के फ़राइज़ मौलाना नूरुल हुदा ने अंजाम दिए।

TOPPOPULARRECENT