Thursday , June 21 2018

दीनी गरमाई कोर्स का अहया बच्चों को दीन से करीब करने का ज़रीया

शेख उल जामिआ निज़ामीया मौलाना मुफ़्ती खलील अहमद ने कहा कि जामिआ निज़ामीया और सियासत के इश्तिराक-ओ-तआवुन से गरमाई तातीलात में दीनी गरमाई कोर्सेस का अहया-कई तलबा-ए-ओ- नौजवान लड़कों-ओ-लड़कियों को दीन से करीब करने का ज़रीया बना और वह

शेख उल जामिआ निज़ामीया मौलाना मुफ़्ती खलील अहमद ने कहा कि जामिआ निज़ामीया और सियासत के इश्तिराक-ओ-तआवुन से गरमाई तातीलात में दीनी गरमाई कोर्सेस का अहया-कई तलबा-ए-ओ- नौजवान लड़कों-ओ-लड़कियों को दीन से करीब करने का ज़रीया बना और वहीं ये तलबा-ए-दीन की बुनियादी अबजद से वाक़फ़ियत हासिल कर रहे हैं।

इबतदा-ए-में जब इस कोर्स का आग़ाज़ किया गया तो शहर में 43 मराकिज़ क़ायम थे जो अब बढ़ते हुए 183 मराकिज़ तक पहुंच चुके । वालदैन को चाहीए कि वो अपनी औलाद की तरबियत-ओ-दीनी तालीम के लिए संजीदा होँ तो इस बात का क़वी इमकान है कि नई नसल दीन से करीब होसकेगी । इन ख़्यालात का इज़हार

मौलाना मुफ़्ती खलील अहमद आज शाम महबूब हुसैन जिगर हाल रोज़नामा सियासत (आबिडज़) में जामिआ निज़ामीया और सियासत के दीनी गरमाई कोर्स की इफ़्तिताही तक़रीब से किया । शह नशीन पर न्यूज़ एडीटर रोज़नामा सियासत जनाब आमिर अली ख़ान , मौलाना हाफ़िज़ मोहम्मद उबैदुल्लाह फहीम कादरी मुल्तानी मुनतजिम जामिआ निज़ामीया , मौलवी सैयद अहमद अली मोतमद जामिआ निज़ामीया ,

जनाब शुजाअत अली जनरल मैनिजर रोज़नामा सियासत मौजूद थे । मौलाना मुफ़्ती खलील अहमद ने कहा कि जामिआ निज़ामीया और सियासत के तआवुन से दीनी गरमाई कोर्स सिर्फ रियासत आंधरा प्रदेश ही नहीं बल्कि बैरूनी रियासत महाराष्ट्रा-ओ-कर्नाटक के इलाक़ों में भी मक़बूल होता जा रहा है । उन्हों ने कहा कि दीनी गरमाई कोर्स का निसाब जोकि मुख़्तसर-ओ-आम फहम अंदाज़ में तय्यार किया गया जिस के लिए इस में इस्लाम की बुनियादी बातें

, वुज़ू , ग़ुसल , नमाज़ , अख़लाक़ीयात के इलावा सीरत तैबा से वाक़िफ़ करवाया गया । उन्हों ने कहा कि वालदैन से औलाद के मुताल्लिक़ ये सवाल नहीं होगा कि उन्हें मकान , गाड़ियां , ज़र-ओ-दौलत कितनी दी गई बल्कि रोज़ क़यामत इस बात का सवाल होगा कि अपनी औलाद को दीन से वाक़िफ़ करवाने के साथ उन की तालीम-ओ-तरबियत का कितना हिस्सा अदा किया ।

उन्हों ने इस निसाब को नई नसल तक पहुंचाने में जनाब ज़ाहिद अली ख़ां चीफ एडीटर रोज़नामा सियासत के तआवुन का शुक्रिया भी अदा किया और इस उम्मीद का इज़हार किया कि आइन्दा भी इन का तआवुन जारी रहेगा । जनाब आमिर अली ख़ान ने कहा के इस कोर्स की ख़ुसूसियत ये है कि दीनी तालीम से नौजवानों , तलबा-ए-को वाक़िफ़ करवाते हुए फ़ायदा पहुंचाया जाय ,

उन्हों ने कहा कि नमाज़ जोकि अल्लाह से क़ुरब का ज़रीया है इस में रुकू ओ-सुजूद के ज़रीया-ए-सेहत में बेहतरी पैदा होती है जिस से आज की दुनिया वाक़िफ़ हो चुकी है । मीडिया की जानिब से दाढ़ी-ओ-दीगर इस्लामी उमूर को बदनाम करने की घिनाउनी साज़िश की जा रही है इस से नई नसल को वाक़िफ़ होना ज़रूरी है ।

उन्हों ने कहा के जामिआ निज़ामीया साल 2003 -से सियासत से वाबस्तगी इख़तियार किए हुए है जिस के लिए मौसम-ए-गर्मा में तलबा-ए-, नौजवान , बच्चे , बच्चियां दीनी इलम से वाकिफ हैं। दीनी तालीमी गरमाई कोर्स के निसाब की रस्म इजरा मौलाना मुफ़्ती खलील अहमद के हाथों अंजाम पाई ।

मौलाना हाफ़िज़ उबैदुल्लाह फहीम कादरी मुल्तानी ने कहा कि इन क्लासस का आग़ाज़ 24 अप्रैल को होगा और ये सिलसिला यक्म जून तक जारी रहेगा और 3 जून को जलसा तक़सीम अस्नाद मुनाक़िद होंगे और तमाम सेंटर्स पर इस के औक़ात कार 3:30 बजे दिनता 5:30 बजे शाम रहेंगे । बाअज़ मराकिज़ पर औक़ात की तबदीली का इमकान है ।

हाफ़िज़ मुहम्मद अबदुलक़दीर की क़रात-ओ-सैयद अनवार उल्लाह कादरी की नाअत शरीफ से जलसा का आग़ाज़ हुआ । जनाब सैयद अहमद अली मोतमद जामिआ निज़ामीया ने शुक्रिया अदा किया।

TOPPOPULARRECENT