Saturday , November 25 2017
Home / International / दुनिया में हर 3 सेकेंड पर एक व्यक्ति विस्थापित हो रहा है: संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी

दुनिया में हर 3 सेकेंड पर एक व्यक्ति विस्थापित हो रहा है: संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी

Migrants and children stand behind a fence at the Hellinikon camp in Athens, on February 6, 2017, in a protest at poor living conditions, during a visit of the Greek Immigration Minister. The demonstration broke out at the Hellinikon camp near Athens, which houses hundreds of predominantly Afghan migrants, who had announced a hunger strike hours earlier. A disused Olympic park, Hellinikon houses over 1,500 migrants who say the run-down stadiums are unsuited to long-term habitation. At the start of the major influx in 2015, Afghans were originally viewed as refugees and allowed to continue their journey from Greece to other countries in Europe. But many now face deportation -- despite growing insecurity that saw civilian casualties in Afghanistan hit a record high in 2016 -- after a disputed deal between EU and Kabul to send migrants back. / AFP PHOTO / LOUISA GOULIAMAKI

जिनीवा: संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी ने एक रिपोर्ट प्रकाशित की है जिसमें कहा गया कि 2016 के बाद से दुनिया भर में 6.5 करोड़ लोग विस्थापित हुए हैं। यह आंकड़ा सीरिया, दक्षिण सूडान और दूसरी जगहों पर संघर्ष हुए हिंसा और यातनाओं के रिकॉर्ड के आधार पर दिया गया है।

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी द्वारा प्रकाशित की गई रिपोर्ट के कहा गया है कि यह आंकड़ा 2015 के अंत तक विस्थापित होने वाले लोगों की संख्या से तीन लाख ज्यादा है जबकि 2014 में यह आंकड़ा 6 लाख से अधिक था।

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी आयुक्त (यूएनएचसीआर) फिलिपो ग्रांदी ने रिपोर्ट जारी किए जाने से पहले पत्रकारों से कहा, “हमने जब से ये आंकड़े दर्ज करने शुरू किए हैं तब से अब तक की यह सबसे बड़ी संख्या है। किसी भी हिसाब से, हम इसे स्वीकार नहीं कर सकते और इससे संकटों को रोकने और सुलझाने में एकजुटता और आम उद्देश्य की आपात जरूरत का पता चलता है।”

विश्व शरणार्थी दिवस से पहले जारी किए गए इस आंकड़े से पता चलता है कि बीते साल दुनिया भर में 1.03 करोड़ लोग अपने घरों को छोड़कर पलायन करने को मजबूर हुए। उसमें से 34 लाख ऐसे लोग शामिल हैं जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय सीमाएं पार की और शरणार्थी बन गए।

यूएनएचसीआर ने एक और बयान में कहा, “इसका मतलब है कि हर 3 सेकेंड में एक व्यक्ति विस्थापित हो रहा है, जो इस वाक्य को पढ़ने में लगने वाले समय से भी कम है। वहीं नार्वेजियन रिफ्यूजी कौंसिल (एनआरसी) के प्रमुख जान इगलैंड ने कहा कि पिछले पांच साल की तुलना में इस साल दो करोड़ से अधिक लोग विस्थापित हुए हैं।

TOPPOPULARRECENT