Friday , November 24 2017
Home / India / दूध के मयार केलिए बैक्टीरिया मुआइना लाज़िम

दूध के मयार केलिए बैक्टीरिया मुआइना लाज़िम

नई दिल्ली, १४ जनवरी ( एजैंसीज़) हिंदूस्तान ने दूध को तग़ज़िया बख़श और बैक्टीरिया से पाक बनाने के लिए फरवरी से इस के मुआइने को लाज़िम क़रार देने का फ़ैसला करलिया गया है जिस की असल वजह दूध में ई कोली नामी बैक्टीरिया का पता चलाते हुए इसे दूध से

नई दिल्ली, १४ जनवरी ( एजैंसीज़) हिंदूस्तान ने दूध को तग़ज़िया बख़श और बैक्टीरिया से पाक बनाने के लिए फरवरी से इस के मुआइने को लाज़िम क़रार देने का फ़ैसला करलिया गया है जिस की असल वजह दूध में ई कोली नामी बैक्टीरिया का पता चलाते हुए इसे दूध से पाक करना मक़सद है।

ग़िज़ा को महफ़ूज़ बनाने के इस नई शर्त की तफ़सीलात के बमूजब अगस्त 2011-ए-को ही इस शर्त को लाज़िम क़रार दे दिया गया था लेकिन दूध फ़राहम करनेवाली कंपनीयों के लिए मज़कूरा बाला मुज़िर बैक्टीरिया से दूध को ख़ालज करने के लिए फरवरी से इस शर्त को लाज़िमी तौर पर आइद किया जा रहा है।

फ़ूड सेफ़्टी स्टैडर्ड अथॉरीटी आफ़ इंडिया की जानिब से इस शर्त को लाज़िम इस लिए भी क़रार दिया जा रहा है कि क्यों कि हिंदूस्तान की मुख़्तलिफ़ रियास्तों में दूध का जो मयार देखा गया है इस में कई ऐसी रियास्तें मौजूद हैं जिस में सेहत के लिए मुज़िर अनासिर की मिक़दार 89 फ़ीसद से ज़ाइद है।

मर्कज़ी वज़ीर-ए-सेहत ग़ुलाम नबी आज़ाद ने अपने एक ब्यान में कहा कि हर रियासत ग़िज़ा में मिलावट की बदउनवानीयों पर संजीदगी से ग़ौर करते हुए उन के सद बाब के लिए मूसिर हिक्मत-ए-अमली इख़तियार करे। उन्हों ने मज़ीद कहा कि दूध, तरकारी और मेवे जो कि हिंदूस्तानियों की जानिब से इस्तिमाल की जानी वाली आम ग़िज़ाएं हैं लेकिन इस में मिलावट तशवीशनाक है।

हालिया अर्सा में दूध के मयार का जो मुआइना किया गया था इस में गुजरात 89 फ़ीसद, जम्मू कश्मीर 83 फ़ीसद, पंजाब 81 फ़ीसद, राजिस्थान 76 फ़ीसद, नई दिल्ली और हरियाणा 70 फ़ीसद और महाराष्ट्रा 65 फ़ीसद मुआइने में नाकाम रहीं जब कि दीगर रियास्तों में नाकामी की फ़ीसद किसी क़दर कम रही।

TOPPOPULARRECENT