Friday , November 24 2017
Home / Delhi / Mumbai / देशद्रोह कानून के निरसन के लिए कोई औपचारिक प्रतिनिधित्व प्राप्त नहीं हुई

देशद्रोह कानून के निरसन के लिए कोई औपचारिक प्रतिनिधित्व प्राप्त नहीं हुई

नई दिल्ली: जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार का विश्वासघात के आरोप में गिरफ्तारी के बाद इस कानून से संबंधित उत्पन्न बहस के दौरान सरकार ने आज कहा कि उसे प्राचीन काल से चले आ रहे इस कानून रद्दीकरण की मांग के साथ कोई आवेदन या प्रतिनिधित्व प्राप्त नहीं हुई है।

लोकसभा को आज सूचित किया गया कि 2014 में पूरे देश में राजद्रोह के कानून के तहत जुमला 47 मामले दर्ज किए गए थे जबकि इस साल सिर्फ एक मामला दर्ज किया गया है। एक सवाल का जवाब देते हुए मिनिस्टर आफ़ स्टेट प्रवेश हरि भाई पारती भाई चौधरी ने कहा कि सरकार को राजद्रोह कानून को संशोधित या कानून के निरसन के लिए किसी कोने से कोई प्रतिनिधित्व प्राप्त नहीं हुई है।

उन्होंने हालांकि कहा कि अक्टूबर 2012 में गृह मंत्रालय ने विधि एवं न्याय मंत्रालय से इच्छा थी कि भारतीय दंड संहिता की धारा 124A के उपयोग की समीक्षा और इसमें जरूरी संशोधन प्रस्ताव पेश करे। कानून मंत्रालय की ओर से ला आयोग से यह इच्छा थी कि वे इस समस्या की समीक्षा और देश में आपराधिक कानूनों का व्यापक समीक्षा करते हुए कदम किए जाएं।

चौधरी ने कहा कि 11 दिसंबर 2014 को ला आयोग ने यह सूचना दी थी कि उसने कुछ मुद्दों पर ध्यान देने की जरूरत महसूस करते हुए सबसे समूह स्थापित किए हैं ताकि उनका समीक्षा सके। मंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो ने 2014 के बाद से धारा 124A के तहत दर्ज किए गए मामलों की समीक्षा करना शुरू किया है।

इस बार नफरत फैलाने या अपमान से संबंधित है या फिर सरकार के कानून के संबंध में गैर पसंदीदगी व्यक्त करने से संबंधित है। उन्होंने कहा कि 2015 से संबंधित डाटा को अब तक प्रस्तुत किया जा रहा है। मंत्री की पेशकश की 2014 के डाटा के अनुसार देश में केवल आठ राज्यों में इस कानून का इस्तेमाल किया गया था जहां वाक्यांश 47 मामले दर्ज किए गए थे।

सबसे अधिक 18 मामले झारखंड में दर्ज किए गए थे जबकि 16 मामलों के साथ बिहार दूसरे नंबर पर था। इस कानून के तहत अब तक देश में केवल एक मामले में सजा सुनाई गई है और वह झारखंड में हुआ है। देशद्रोह के आरोप में पिछले महीने जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार की गिरफ्तारी के बाद पूरे देश में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया था और यह मांग किए जा रहे थे कि देश में इस कानून को खत्म करने की जरूरत है।

कहा जा रहा था कि इस कानून के द्वारा व्यक्त विचार की स्वतंत्रता छीन किया जा रहा है। कन्हैया कुमार फिलहाल अंतरिम जमानत पर है जबकि उसके साथी छात्रों उमर खालिद और अनीरबन भट्टाचार्य फिलहाल न्यायिक हिरासत में हैं। उन पर भी देशद्रोह के आरोप हैं।

TOPPOPULARRECENT