देश का पहला शरई कोर्ट कानपुर में खुला, महिला मुफ्ती करेंगी सुनवाई

देश का पहला शरई कोर्ट कानपुर में खुला, महिला मुफ्ती करेंगी सुनवाई
Click for full image
शरई कोर्ट के शुरु होने पर  हिना जहीर ने कहा कि दारुल कजा के खुलने के बाद अब महिलाओं को मर्द काजियों के सामने हिचकिचाने की जरुरत नहीं होगी। महिलाएं दारुल कजा में अब खुलकर अपनी पीड़ा बता सकेंगी। दारुल कजा के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि इस कोर्ट के खुल जाने से मुस्लिम महिलाओं को सही रास्ता तो दिखाया ही जाएगा, साथ ही उन्हें हर जरूरी जानकारी भी दी जायेगी। पीड़ित महिलाओं को खुद के जीवन को सरल और मजबूत बनाने के लिए जरूरी सलाह और जानकारी भी दी जायेगी।
इस दौरान उन्होंने कहा कि इस्लाम में बेटों को नेमत और बेटियों को रहमत कहकर बराबर का हक दिया गया है। निकाह के बाद औरतें किसी मर्द की गुलाम या दासी नहीं, बल्कि जीवन संगिनी होती हैं। उन्होंने कहा कि कुरान की बातों से अलग मौलाना ये कहते है कि एक बार में ही तीन तलाक होता है, जबकि ऐसा नहीं है। कुरान के अनुसार तीन माह में रुक-रुक कर तलाक देने का जिक्र है ।
Top Stories