देश के संविधान के ख़िलाफ़ ‘शरीअत’ में दखल अंदाजी क़ुबूल नहीं: मौलाना अरशद मदनी

देश के संविधान के ख़िलाफ़ ‘शरीअत’ में दखल अंदाजी क़ुबूल नहीं: मौलाना अरशद मदनी
Click for full image

प्रतापगढ़। जमीअत उलेमा-ए-हिंद के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना सैयद अरशद मदनी ने कहा है कि देश के धर्मनिरपेक्ष संविधान के विपरीत शरीअत में हस्तक्षेप स्वीकार्य नहीं है जब कि संविधान में सभी धर्मों को पूरी आज़ादी है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

न्यूज़ नेटवर्क समूह प्रदेश 18 के अनुसार उत्तर प्रदेश में प्रतापगढ़ जिले के दिलहोपूर बाजार के निकट भकनापूर पडाओ पर आयोजित राष्ट्रीय एकता सम्मेलन को बतौर मुख्य अतिथि मौलाना ने संबोधित करते हुए कहा कि देश में रहने वाले सभी भारतीय हैं उसके बाद मुसलमान और हिंदू हैं। पर्सनल लॉ में हस्तक्षेप करके हमें बोलने के लिए मजबूर किया जा रहा है, जब सभी यह मानते हैं कि सब का मालिक एक है तो समुदाय के नाम पर झगड़े क्यों? उन्होंने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि देश की एक उच्च राजनीतिक पार्टी अपने राजनीतिक लाभ के लिए लोगों को लड़ा कर राजनीतिक लाभ हासिल करना चाहती है, जब कि हम देश में शांति चाहते हैं।
उन्होंने कहा कि हमें इस मिट्टी से प्यार है। यह देश गंगा-जमुनी संस्कृति का केंद्र है उसको कोई प्रभावित करने की कोशिश करेगा तो देश की जनता चुप नहीं रहेगी।
आचार्य प्रमोद कृष्णन कल्कि पीठ ने बतौर अतिथि मानद संबोधित करते हुए कहा कि प्यार का रिश्ता भावनाओं से है दिमाग से नहीं। आज देश की एक राजनीतिक पार्टी प्यार के नाम पर नफरत की खेती को प्राथमिकता दे रही है। शहीद भगत सिंह और अशफाकुल्लाह ने हिंदू मुसलमान के लिए शहादत पेश नहीं की बल्कि भारत के लिए शहीद हुए। आज हिंदुत्व के नाम पर दिलों में दीवार खड़ी की जा रही है जो देश की गंगा-जमुनी संस्कृति के लिए बहुत खतरनाक है .भारत हिंदू मुसलमानों का नहीं बल्कि सवा करोड़ भारतीयों का है। उन्होंने नोट विलोपन से संबंधित केंद्र सरकार को निशाना बनाते हुए कहा कि नोट बदलने की नहीं बल्कि दिल बदलने की जरूरत है।

Top Stories