Saturday , June 23 2018

देश को कैशलेस बनाने की राह पर चल रही बीजेपी कैश चंदा लेने में सबसे ऊपर

नई दिल्ली: हमारे देश के प्रधानमंत्री अचानक से नोटबंदी का ऐलान कर के देश को कैशलेस ट्रांसजेक्शन करने की सलाह दे रहे हैं। वह लोगों को कैशलेस अर्थव्यवस्था का फायदा समझाने में कोई कमी नहीं छोड़ रहे। लेकिन देश की राजनीतिक पार्टियां ये बात नहीं समझती इसका एक बेहतरीन उदारहण ये है कि भारतीय राजनीतिक पार्टियां जो चंदा लेती हैं वह सब कैश में ही लेती हैं और इस दौड़ से सबसे ऊपर है बीजेपी। आपको बता दें की जब कोई राजनीतिक पार्टी 20000 रूपये से कम चंदा लेती है तो उसे इस का हिसाब किताब इलेक्शन कमीशन को नहीं देना पड़ता।

इसी साल एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स की रिपोर्ट के मुताबिक 20 हज़ार से कम चंदा दिखाने में बीजेपी ने पहला स्थान पाया है। इस साल बीजेपी ने चंदे में 872 करोड़ पाया है जिसमें से उन्होंने 434 करोड़ 67 लाख रुपए का चंदा 20 हजार से कम बताया है।
जबकि कांग्रेस ने इस साल करीब 207 करोड़ रुपए पाए हैं जिसमें से उन्होंने कांग्रेस ने 65 करोड़ 58 लाख रुपए को 20 हजार से कम बताया है। बसपा ने तो पार्टी को 92 करोड़ 80 लाख के पूरी रकम को ही 20 हज़ार से कम चंदे के रूप में बता दिया।

एडीआर का कहना है कि इसी कारण राजनीतिक पार्टियों को मिलने वाली 75 फीसदी रकम कहाँ से आती है किसी को पता नहीं होता। इस सन्दर्भ में इलेक्शन कमीशन ने अपनी सिफारिश कानून मंत्रालय को भेज दी है और इससे जुड़े कानून ने बदलाव करने की सलाह सरकार को दी है। अब ये देखऩा दिलचस्प होगा कि मोदी सरकार इलेक्शन कमीशन के इस प्रस्ताव पर क्या कदम और कब तक उठाती है।

TOPPOPULARRECENT