देश में अघोषित इमरजेंसी जैसे हालात हैं, संविधान को कमजोर करने की कोशिश की जा रही है- शरद यादव

देश में अघोषित इमरजेंसी जैसे हालात हैं, संविधान को कमजोर करने की कोशिश की जा रही है- शरद यादव

जदयू के पूर्व नेता शरद यादव का कहना है कि देश में इन दिनों अघोषित आपातकाल की स्थिति है। सभी लोकतान्त्रिक संस्थाएं खतरे में तो हैं ही, संविधान को भी कमजोर करने के प्रयास हो रहे हैं। यह बात उन्होंने एक संवाददाता सम्मेलन में कही।

अपने बयान में शरद यादव ने कहा कि देश मुश्किल समय से गुजर रहा है। देश में अघोषित आपातकाल की स्थिति है। इस आपातकाल और चार दशक पहले लगे आपातकाल के बीच एकमात्र अंतर यह है कि वह प्रत्यक्ष था और तब हमने संघर्ष किया था।

’’ उन्होंने यह भी कहा कि संविधान को कमजोर करने की कोशिश की जा रही है। अल्पसंख्यकों पर कई आधारों से हो रहे हमलों का जिक्र करते हुए शरद यादव ने भाजपा की नीतियों को घातक बताया।

उन्होंने लव जिहाद के नाम पर समुदायों के बीच विभाजन और गाय के नाम पर लोगों की हत्या करने को समाज के लिए खतरा बताया। भाजपा द्वारा विदेशों से काला धन लाने और लोगों के बैंक खातों में 15 लाख रूपये आने के वादे का भी उल्लेख किया।

यादव ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी एक सक्षम नेता बताते हुए उनके द्वारा महागठबंधन का नेतृत्व किए जाने की संभावना भी जताई। उन्होंने कहा बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने भाजपा से हाथ मिलाकर 11 करोड़ लोगों के जनादेश का अपमान किया है।

Top Stories