देश में एक भी घुसपैठिया नहीं रहने दिया जाएगा- अमित शाह

देश में एक भी घुसपैठिया नहीं रहने दिया जाएगा- अमित शाह
Chawmanu: BJP National President Amit Shah addresses a public meeting in Chawmanu, Tripura on Sunday. PTI Photo (PTI2_11_2018_000188B)

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार को कहा कि देश में साल 2019 में एक बार फिर भाजपा की सरकार आएगी तब एक भी घुसपैठिए को यहां नहीं रहने दिया जाएगा. शाह ने इसके साथ ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर भी जमकर निशाना साधा. शाह ने छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में भाजपा के शाक्ति केंद्र कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और यूपीए के पूरे कुनबे को देश की सुरक्षा की कोई चिंता नहीं है. जब राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) आया तब प्रारंभिक जानकारी मिली कि यहां 40 लाख घुसपैठिए हैं. इसके बाद घुसपैठियों की चिंता शुरू हो गई. उनके मानवाधिकार को लेकर चिंता की गई.

छत्तीसगढ़ में इस साल के अंत में विधानसभा चुनाव होना है. पिछले 15 वर्षों से सत्ता में काबिज बीजेपी ने इस बार 90 में से 65 सीटें जीतकर चौथी बार सरकार बनाने का लक्ष्य तय किया है.

 

बीजेपी अध्यक्ष शाह ने कहा कि राहुल गांधी को इसका जवाब देना चाहिए कि क्या उनको घुसपैठियों का मानवाधिकार दिखता है, वहां (असम) रहने वाले बच्चों का मानवाधिकार नहीं दिखता है. युवाओं की नौकरी जाती है, उनका मानवाधिकार नहीं दिखता है. उन्हें घुसपैठियों की नहीं बल्कि देश के नौजवानों की चिंता करनी चाहिए. शाह ने कहा कि वह बता देना चाहते हैं कि वर्ष 2019 में भारतीय जनता पार्टी की सरकार फिर से आने के बाद देश में एक भी घुसपैठियों को यहां नहीं रहने दिया जाएगा. यह भारतीय जनता पार्टी का संकल्प है.

 

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि माओवादियों के खिलाफ रमन सरकार और उनकी पूरी टीम लगातार काम कर रही है. छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का सफाया हो रहा है. यहां छत्तीसगढ़ में नक्सलियों पर नकेल कसी जा रही है उससे अन्य राज्यों को दिशा मिली है.

शाह ने कहा कि महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है. वहां की सरकार ने शहरी माओवादियों को गिरफ्तार किया तब सवाल किया गया कि उन्हें क्यों पकड़ा गया है. उनका मानवाधिकार है, उन्हें बोलने का अधिकार है. उनकी आजादी का क्या होगा. आप लोग बताएं कि जो मोटार्र रखे उसे पकड़ना चाहिए कि नहीं. जो प्रधानमंत्री की हत्या का षड्यंत्र रचे उसे पकड़ना चाहिए कि नहीं.

 

शाह ने कहा कि राहुल गांधी बताएं कि आप किसे बचाने निकले हैं. मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में कांग्रेस अध्यक्ष स्पष्ट करें कि वह माओवादियों के साथ हैं या नहीं. इसे लेकर कांग्रेस को अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि कांग्रेस अपनी स्थिति स्पष्ट करे या न करे. हमारी स्थिति साफ है, तब से है जब से जनसंघ की स्थापना हुई है. देशद्रोहियों के प्रति हमारी ‘जीरो टॉलरेंस’ की नीति रही है.

 

भाजपा अध्यक्ष ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि यह आमसभा नहीं है, बल्कि भाजपा कार्यकर्ताओं का सम्मेलन है. शक्ति केंद्र के कार्यकर्ताओं का सम्मेलन है. चुनाव चाहे वर्ष 2018 का हो या वर्ष 2019 का, यह चुनाव सांसद, विधायक, मंत्रियों, मुख्यमंत्री का चुनाव नहीं बल्कि भाजपा के कार्यकर्ताओं का चुनाव है. कोई भी चुनाव नेता नहीं जीतता बल्कि कार्यकर्ता जीतते हैं.

शाह ने कहा कि हम सरकार जनता की खुशी और आदिवासियों के हितों में काम करने के लिए बनाते हैं. जब जनसंघ की स्थापना हुई तब 10 सदस्य थे. आज यह पार्टी 15 करोड़ तेजतर्रार कार्यकर्ताओं की पार्टी बन गई है. देश में 70 फीसदी भूभाग पर भाजपा का झंडा लहरा रहा है. आज हम जहां पहुंचे हैं इसके लिए कई लोगों ने अपना पूरा जीवन दे दिया है. हम ऐसा काम करें और हमारी ऐसी विजय हो कि आने वाले 50 साल तक पंचायत से लेकर संसद तक भाजपा का दबदबा कायम रहे.

बीजेपी प्रेसिडेंट ने कहा कि राहुल गांधी छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान में सरकार बनाने का सपना देखते हैं. यह दिन में देखने वाला सपना है. उन्हें जब से देश में नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने हैं तब से चुनाव का इतिहास देखना चाहिए. बीते चार साल में हमने लगातार जीत हासिल की है और जो राज्य छूट गया है वहां हम वर्ष 2019 के चुनाव में भारी मतों से विजयी होंगे.

शाह ने कहा कि इस सरकार ने पिछले चार वर्षों में लगातार गरीबों के हित में काम किया है. करोड़ों लोगों का बैंक अकाउंट खोला गया और गरीब महिलाओं को गैस सिलेंडर दिया गया. यूपीए के शासनकाल में किसान रोता रहा जबकि हमने उनके फसल की कीमत, लागत से डेढ़ गुना कर दी है. यहां आने वाला प्रत्येक कार्यकर्ता संकल्प ले कि आने वाले चुनाव में हमें इस तरह जीतना है कि कांग्रेस को समूल उखाड़ कर फेंक देना है. सरकार की योजनाओं को घर-घर तक ले जाना है. कमल के निशान को घर घर तक ले जाना है. इस दौरान मुख्यमंत्री रमन सिंह, पार्टी की महासचिव सरोज पांडेय, प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक, रमन मंत्रिमंडल के सदस्य और अन्य वरिष्ठ नेता मौजूद थे.

Top Stories