Friday , November 24 2017
Home / Bihar News / देसी शराब पर 1 अप्रैल से पूरी तरह बैन

देसी शराब पर 1 अप्रैल से पूरी तरह बैन

पटना : सरकार ने पहले की एलान में थोड़ा तर्मीम करते हुए फेज बाय फेज़ तरीके से रियासत में शराबबंदी का फैसला लिया है। पहले फेज़ में 1 अप्रैल से रियासत में देसी शराब की बिक्री और प्रोडक्शन पर पूरी तरह बैन लग जाएगा। जुमा को रियासत कैबिनेट ने पूरी शराबबंदी की तजवीज पर मुहर लगा दी। रियासत में एक अप्रैल 2016 से पहले फेज़ में ही 90 फिसद दुकानें बंद हो जाएंगी। इसके अलावा कैबिनेट ने सुशासन के प्रोग्राम पर भी मुहर लगा दी है। इन प्रोग्राम में वज़ीरे आला नीतीश कुमार के सात हदफ़ को भी शामिल किया गया है। इसे लागू करने के लिए बिहार तरक्क्की मिशन की तशकील होगा। शराब की लत छुड़ाने के लिए जिलों में डी एडीक्शन सेंटर खोलने के तजवीज को गुजिश्ता कैबिनेट में मंजूरी ही मिल चुकी है।

वज़ीरे आला नीतीश कुमार की सदारत में जुमा को हुई कैबिनेट की इजलास में फैसला हुआ कि शराबबंदी हर हाल में असर में लाया जाएगा। पूरे प्रोग्राम की निगरानी के लिए चीफ सेक्रेटरी की सदारत में कमेटी होगी। तरक्की कमिश्नर के अलावा उन महकमा के अफसर भी कमेटी में शामिल होंगे जो इस मिशन से जुड़े हैं। इसके अलावा शराब के खिलाफ एक सामजिक मुहीम भी चलेगा। इसमें NGO, अंगनबाडी और आशा कार्कुनान के अलावा अवामी नुमायदों को भी शमिल किया जाएगा।

गांवों में शराब की दुकानें नहीं होंगी

फैसले के मुताबिक देशी शराब पर रियासत भर में पूरी तरह बैन होगा। विदेशी भी गांवों में नहीं बिकेंगी। सिर्फ शहरी इलाके में विदेशी शराब की कुछ दुकानें होंगी वह भी सरकार के कण्ट्रोल में। प्राइवेट हाथों में एक भी दुकान नहीं होगी। किसी दुकान में शराब पीने की इंतेज़ाम नहीं होगी। इसके गैर कानूनी कारोबार पर रोक लगाने की जिम्मेवारी डीएम और एसपी की होगी। गैर कानूनी कारोबार की शिकायतों पर पुलिस का रिस्पॉन्स टाईम सिर्फ उतना ही होगा जितनी देर में थाने से मुक़ाम तक पहुंचा जा सके। पैदावार महकमा के इन्फोर्समेंट विंग को और मजबूत किया जाएगा।

TOPPOPULARRECENT