Tuesday , December 19 2017

देहरादून में राहुल गांधी पर भी जूता फेंका गया

देहरादून, २४ जनवरी ( पी टी आई ) सयासी क़ाइदीन और अवामी नुमाइंदों पर जूते फेंकने के रुजहान का ताज़ा शिकार आज कांग्रेस के नौजवान जनरल सेक्रेटरी-ओ-रुकन पार्लीमेंट राहुल गांधी शिकार हुए जबकि एक नौजवान ने राहुल गांधी पर उस वक़्त जूता फेंका

देहरादून, २४ जनवरी ( पी टी आई ) सयासी क़ाइदीन और अवामी नुमाइंदों पर जूते फेंकने के रुजहान का ताज़ा शिकार आज कांग्रेस के नौजवान जनरल सेक्रेटरी-ओ-रुकन पार्लीमेंट राहुल गांधी शिकार हुए जबकि एक नौजवान ने राहुल गांधी पर उस वक़्त जूता फेंका जबकि वो देहरादून में एक इंतेख़ाबी जलसा से ख़िताब कर रहे थे ।

इस से दो दिन क़बल ही टीम अन्ना के अरकान के साथ इसी तरह का वाक़िया पेश आया था । देह्रादून के इस एस पी जी एन गोस्वामी ने पी टी आई से बात चीत करते हुए कहा कि राहुल गांधी पर फेंका गया जूता उन से 10 मीटर दूर गिर पड़ा । उस नौजवान की कुलदीप की हैसियत से शनाख़्त हुई है और उसे फ़ौरी तौर पर हिरासत में ले लिया गया है इस से पूछताछ की जा रही है ।

विकास नगर में मुनाक़िदा इस रैली में जब जूता फेंकने वाले नौजवान को हिरासत में लेकर मुंतक़िल किया जा रहा था राहुल गांधी को सिक्योरीटी अमला से ये कहते हुए सुना गया कि उसे मारिए मत । राहुल गांधी ने इस मौक़ा पर कहा कि कुछ लोगों को ये ग़लत तास्सुर है कि अगर उन पर कुछ जूते और चप्पल फेंके जाएं तो वो यहां से चले जाएंगे ।

अगर किसी को अपना ग़ुस्सा निकालना है तो वो दो तीन जूते भी फेंक सकता है इस से उन्हें कोई फ़र्क़ नहीं पड़ेगा । उन्हों ने कहा कि होसकता है कि इस नौजवान का बी जे पी से ताल्लुक़ हो। इस वाक़िया की शदीद मुज़म्मत करते हुए कांग्रेस ने आज कहा कि इस मुआमला में बी जे पी का रोल हो सकता है और इस ने मुतालिबा किया है कि हक़ीक़त का पता चलाने के लिए जामि तहकीकात की जानी चाहिऐं।

कांग्रेस तर्जुमान राशिद अलवी ने कहा कि वो इस वाक़िया की मुज़म्मत करते हैं। ये अफ़सोसनाक वाक़िया है । कुछ वक़्त से बी जे पी कहती आर ही है कि अवाम सड़कों पर उतर आएंगे और ख़ा नज्जा जंगी शुरू होगी । इस तरह के गैर ज़िम्मा दाराना ब्यानात इस तरह की हरकतों की हौसला अफ़्ज़ाई करते हैं। वो नहीं जानते कि इस वाक़िया के पसेपर्दा हक़ीक़त में कौन हैं लेकिन सयासी जमाअतें और सयासी क़ाइदीन को इस तरह के ब्यानात देने से क़बल काफ़ी एहतियात से काम लेना चाहीए ।

वज़ीर ख़ारिजा एस एम कृष्णा ने कहा कि ये काबिल-ए-मुज़म्मत इक़दाम है और हमें इस तरह की हरकतों की हौसला अफ़्ज़ाई नहीं करनी चाहीए । की उनका ये इक़दामात जमहूरी रवायात और जमहूरी दायरा कार के मुग़ाइर हैं। पार्टी जनरल सेक्रेटरी मिस्टर दिग विजय सिंह ने कहा कि जो लोग जूते फेंक रहे हैं और स्याह पर्चम दिखा रहे हैं उन के सयासी अज़ाइम और मक़ासिद हैं।

वाज़िह रहे कि दो दिन क़बल ही टीम अन्ना के अरकान के साथ इस तरह का वाक़िया पेश आया था जब एक शख़्स ने अरविंद केजरीवाल और किरण बेदी पर जूते फेंके थे जबकि वो एक इंतेख़ाबी जलसा से ख़िताब कर रहे थे ।

राहुल गांधी ने इस वाक़िया पर किसी तरह के रद्द-ए-अमल का इज़हार करने से गुरेज़ किया और इस नौजवान से कहा कि फेंको फेंको एक और जूता फेंको । चीफ मिनिस्टर जम्मू-ओ-कश्मीर मिस्टर उमर अबदुल्लाह ने जूते फेंकने के वाक़िया पर राहुल गांधी के रद्द-ए-अमल की सताइश की है । उन्हों ने अपने ट्वीटर पेज पर तहरीर किया कि वो राहुल गांधी के रद्द-ए-अमल की सताइश करते हैं। वाज़िह रहे कि जम्मू-ओ-कश्मीर में ख़ुद उमर अबदुल्लाह पर भी एक नौजवान ने जूता फेंका था ।

जूता फेंकने के वाक़ियात का आग़ाज़ अमरीकी सदर जॉर्ज बुश से हुआ था जब इराक़ में एक सहाफ़ी ने उन पर जूता फेंका था । इस के बाद सदर-ए-पाकिस्तान आसिफ़ अली ज़रदारी और वज़ीर दाख़िला पी चिदम़्बरम भी इस तरह की हरकतों का शिकार हुए हैं। आख़िरी मर्तबा टीम अन्ना के अरकान को इस तरह की हरकत का निशाना बनाया गया था । क़बल अज़ीं कई इंतेख़ाबी जलसों से ख़िताब करते हुए राहुल गांधी ने क्रप्शन के मसला पर बी जे पी को तन्क़ीद का निशाना बनाया ।

ऋषि केश में उन्हों ने अपने ख़िताब में चीफ मिनिस्टर बी सी खंडूरी को निशाना बनाया और सवाल किया कि जब ये चीफ मिनिस्टर क्रप्शन में मुलव्वस नहीं हैं तो फिर उन्हें पहले इस ओहदा से हटाया क्यों गया था । उन्होंने कहा कि हो सकता है कि मौजूदा हालात में बी जे पी को मिस्टर खंडूरी की ज़रूरत हो लेकिन रियासत के अवाम को उन की ज़रूरत नहीं है । उन्हों ने कहा कि बी जे पी क्रप्शन के मसला पर दोहरा मीआर इख़तियार कर रही है ।

उन्हों ने कहा कि बी जे पी कहती है कि कांग्रेस पार्टी कुरप्शन से मुक़ाबला के मुआमला में संजीदा नहीं है । लेकिन ख़ुद वो कर्नाटक गुजरात छत्तीसगढ़ मध्य प्रदेश और उत्तराखंड में जारी क्रप्शन पर नज़र डालने को तैयार नहीं है । उन्हों ने कहा कि उत्तर प्रदेश जैसी रियासत में तक बी एस पी के रिश्वत के इल्ज़ामात का सामना करने वाले वुज़रा को बी एस पी ने ख़ारिज कर दिया था ताहम उन्हें बी जे पी ने अपनी सफ़ों में शामिल कर लिया ।

TOPPOPULARRECENT