Sunday , November 19 2017
Home / Delhi / Mumbai / दोनों छात्रों का मुकदमा कन्हैया से अलग, ज़मानता विरोध प्रॉसिक्यूशन स्टेटमेंट

दोनों छात्रों का मुकदमा कन्हैया से अलग, ज़मानता विरोध प्रॉसिक्यूशन स्टेटमेंट

नई दिल्ली: दिल्ली की एक अदालत ने देशद्रोह के मामले में गिरफ्तार जेएनयू छात्रों उमर ख़ालिद और अनिर्बन  भट्टाचार्य की जमानत पर अपना फैसला 18 मार्च तक जमा कर दिया। पुलिस ने इन दोनों की प्रतिभूतियों का इस आधार पर विरोध किया था कि उनके खिलाफ सख़्त इल्ज़ाम‌ हैं और ये दोनों ही विश्वविद्यालय में आयोजित विवादास्पद घटना के मूल आयोजकों थे और भट्टाचार्य 23 फरवरी से जेल में हैं और जेएनयू छात्रसंघ के प्रेसिडेंट‌ कन्हैया कुमार से रवा रखे गए व्यवहार के आधार पर अपनी प्रतिभूतियों के लिए आवेदन किया था।

उन्होंने कहाँ था कि इस घटना के लिए देशद्रोह के इल्ज़ाम‌ों लागू नहीं हो सकते। संस्करण सत्र न्यायाधीश ने बहस की सुनवाई की। दोनों आरोपियों ने कहा कि कन्हैया की तरह उन्हें भी राहत दी जानी चाहिए क्योंकि वे न्यायिक हिरासत में हैं और पूछताछ के लिए पुलिस को अब उनकी हिरासत की जरूरत नहीं है।

हालांकि पुलिस ने दावा किया किउमर ख़लेद‌ और अनीर्बन का मामला कन्हैया कुमार से अलग है। छात्रसंघ के अध्यक्ष ने इस समारोह का आयोजन किया था। जेएनयू स्टाफ, छात्रों और सुरक्षा गार्ड्स के अलावा 10 गवाहों ने पुष्टि की है कि इस समारोह में हिन्दुस्तान‌ दुश्मन नारे लगाए गए थे।

अभियोजन पक्ष ने कहा कि भीड़ को उकसाने नारे लगाए गए। यह दो व्यक्तियों, उमर और अनीर्बन ने भीड़ का नेतृत्व किया जो विरोधी हिन्दुस्तान‌ नारे लगा रहा था। पुलिस को अपने दो सेल फोन्स भी उपलब्ध हुए हैं जिससे सबूत मिलता है कि इस समारोह के दौरान अनीर्बन और उमर से हिन्दुस्तान‌ विरोधी नारे लगाए गए थे।

” अभियोजन पक्ष ने कहा कि दो आरोपियों से ईमेल्स उपलब्ध पोस्टर्स से पता चलता है कि जेएनयू प्रशासन द्वारा परमिट वापस लिए जाने के बावजूद उन्होंने इस समारोह का आयोजन किया था। हालांकि आरोपियों के वकील ने कहा कि घटना से पहले या बाद कोई हिंसक घटना नहीं आया।

अनीर्बन‌ वकील नरीदीप पेस ने वजह‌ पेश किया कि ऐसी कई खबरें हैं और यहां तक ​​कि पुलिस ने भी कहा है कि इस घटना से जुड़े कई वीडियो में तोड़जोड़ की गई है। इस घटना पर जेएनयू की रिपोर्ट ने भी कहा है कि बाहरी लोगों ने नारे बाजी की थी। उमर खालिद के वकील जवाहर राणा ने अपने मुवक्किल को कन्हैया कुमार जैसे मसावीाना व्यवहार के आधार पर जमानत देने का मिंनत‌ किया और कहा कि कन्हैया के खिलाफ भी ऐसे ही इल्ज़ाम‌ थे लेकिन उन्हें जमानत दे दी गई।

उमर का मुकदमा भी कन्हैया से अलग नहीं है। इन तीनों कन्हैया, उमर और अनीर्बन‌ अलावा अन्य सात लोगों के खिलाफ भी ऐसे ही इल्ज़ाम‌ लगाए गए थे लेकिन उन्हें छोड़ा जा चुका है। एक स्थानीय वकील यशपाल भी आज की सुनवाई के दौरान मौजूद थे जिसने 15 फरवरी के दौरान पटियाला हाउज़ कोर्ट कांम्प्लेक्स में जेएनयू छात्रों और मीडिया प्रतिनिधियों पर हमला किया था और यह घटना वहां स्थापित कैमरों में रेकोर्ड किया गया था। बेहद कड़े सुरक्षा व्यवस्था के बीच मामले की सुनवाई की गई। संबंधित मामलों के सभी वकीलों को पुलिस पहरे में लाया और सुलजाया गया।

TOPPOPULARRECENT