Sunday , December 17 2017

दो लाख रुपये से अधिक नकद निकासी पर कोई अंकुश नहीं

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने साफ किया है कि बैंकों और डाकघर के बचत खातों से 2 लाख रुपये की नकद लेनदेन की सीमा लागू नहीं होगी। आयकर विभाग ने कहा है कि यदि खर्चे के लिए 2 लाख रुपये बैंक या डाकघर से निकालते हैं (ट्रांजेक्शन नहीं) तो आपको जुर्माना नहीं देना होगा। वित्त बिल 2017 के तहत सरकार ने 2 लाख रुपये से अधिक के नकद लेनदेन पर प्रतिबंध लगा दिया था।

 

 

 
पूर्व में इससे अधिक के लेनदेन पर उतनी ही राशि का जुर्माना लगाने की बात सरकार ने कही थी । आयकर कानून में शामिल नई धारा 269 एसटी के बारे में स्पष्टीकरण जारी करते हुए केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड-सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेज (सीबीडीटी) ने कहा कि यह प्रतिबंध बैंकों और डाकघरों से नकदी निकलने पर लागू नहीं होगा।

 

 

 
बयान में कहा गया है कि यह फैसला किया गया है कि बैंकों, सहकारी बैंकों (को-ऑपरेटिव बैंकों) और डाकघर बचत खातों से नकद लेनदेन पर यह अंकुश लागू नहीं होगा। सीबीडीटी ने कहा कि इस बारे में जरूरी नोटिफिकेशन जारी किया जाएगा। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 2017-18 के बजट में 3 लाख रुपये से ज्यादा के कैश लेनदेन पर प्रतिबंध का प्रस्ताव किया था। इस सीमा को वित्त विधेयक में संशोधन के जरिये 2 लाख रुपये कर दिया गया था।

TOPPOPULARRECENT