Saturday , December 16 2017

दौलत-ए-मुश्तरका खेल अस्क़ाम: कंपनियों को टैक्स की नोटिसें

वज़ारत फिनानस इमकान है कि ख़िदमात टैक्स के मुतालिबा की नोटिसें बाज़ ख़ानगी कंपनियों को जारी करेगी जिन्होंने 2010 से मुताल्लिक़ दौलत-ए-मुश्तरका खेलों के चंद प्रोजेक्टस पर अमल आवरी की थी। मर्कज़ी वीजीलेंस कमीशन (सी वी सी) की तहकीकात से पता चला है कि उन कंपनियों ने टैक्स चोरी की है।

37 सरकारी महिकमों ने 13,000 करोड़ रुपये अव्वाम के सरमाया से दौलत-ए-मुश्तरका खेलों से मुताल्लिक़ प्रोजेक्टस पर बरसर-ए-आम ख़र्च किए हैं। सी वी सी दौलत-ए-मुश्तरका खेलों से मुताल्लिक़ कामों में बदउनवानियों की शिकायात का जायज़ा ले रहा था और उस ने पता चलाया है कि उन प्रोजेक्टस पर अमल आवरी के दौरान तकरीबन एक हज़ार करोड़ रुपये की टैक्स चोरी की गई है।

सरकारी ज़राए के मुताबिक‌ कंपनियों और चंद अफ़राद को अनक़रीब वज़ारत फिनानस टैक्स के मुतालिबा पर मुबनी नोटिसें जारी करदेगी। ज़राए के मुताबिक‌ नोटिसों में 240 करोड़ रुपये टैक्स तलब किया जाएगा। वज़ारत फिनानस पहले ही 67.33 करोड़ रुपये का टैक्स उन कंपनियों से वसूल करचुकी है।

तहकीकात के नगर इनकार कमीशन ने महिकमा मेहनत के मदद‌ से करोड़ों रूपयों की वसूली को मुम्किन बनाया है जो मुबय्यना तौर पर कारकुनों की फ़लाह-ओ-बहबूद के टैक्स के तौर पर वसूल किए गए थे और आजरीन की जानिब से कारकुनों की फ़लाह-ओ-बहबूद पर ख़र्च किए जाने वाले थे।

TOPPOPULARRECENT