Tuesday , December 12 2017

नई मुद्रा नोटस की मुद्रण, 24 घंटे जारी

मैसूर 01 दिसम्बर: आरबीआई की पूर्ण स्वामित्व वाली भारतीय रिज़र्व बैंक नोट मुद्रण प्राइवेट लिमिटेड (बी आर बी एन एम पी एल) नई मुद्रा की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए 24 घंटे काम कर रही है बी जे पी के नेता और कर्नाटक के पूर्व मंत्री एसए रामदास जो भारतीय रिज़र्व बैंक नोट मुद्रण कर्मचारी संघ के कार्यकारी अध्यक्ष हैं के अनुसार मुद्रण इकाई जिसमें 600 कर्मचारी हैं सप्ताह में 5 दिन काम किया करते थे लेकिन पिछले दो दिनों से 7 दिन 24 घंटे काम कर रहे है।

राम दास ने कहा कि पूरी मानव बल को उम्मीद है कि मौजूदा मिशनरी से अधिकतम उत्पादन हो सकेगी। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा जो इस महीने के शुरू में बड़ी नोटों के रद्द ऐलान किया था।वज़ीर-ए-ज़राअत कृष्णा बाईरे गौड़ा ने कहा कि सरकार गन्ना कटाई मशीनों की खरीदी के लिए 40 प्रतिशत सब्सिडी (लगभग 38 लाख रुपये) पोषित कर रही है। ऐसे प्रत्येक मशीन की कीमत 1.38 करोड़ रुपये है इन्सानी तौर पर फसल की कटाई 350 रुपये या 375 रुपये प्रति टन के हिसाब से की जाती है, जबकि सरकार उनके असरी मशीनों के ज़रीये इसे 300 रुपये तक करना चाहती हैं। मामूल के किसान एक दिन में एक एकड़ गन्ने के खेतों की कटाई करते हैं जो यह असरी मशीनों केवल 4 घंटे में कर सकती हैं।

TOPPOPULARRECENT