उम्मीदवार चुनाव जीतने के लिए बाँट रहे हैं वोटरों को नकदी, शराब और सोना! रिकॉर्ड बरामदगी

उम्मीदवार चुनाव जीतने के लिए बाँट रहे हैं वोटरों को नकदी, शराब और सोना! रिकॉर्ड बरामदगी

नई दिल्ली : निर्वाचन आयोग ने अवैध धन और नशीले पदार्थों के प्रवाह पर नजर रखने के लिए हवाई अड्डों, राजमार्गों, रेलवे स्टेशनों, होटलों और फार्म-हाउसों में पर्यवेक्षकों, निगरानी टीमों और प्रवर्तन एजेंटों को तैनात किया है। निर्वाचन आयोग (ईसीआई) के आंकड़ों के अनुसार, भारत में आम चुनावों के दौरान नकदी, शराब और सोने की बरामदगी का रिकॉर्ड दर्ज किया गया है। आंकड़ों से पता चलता है कि उत्तरी भारत की तुलना में दक्षिणी भारत में काफी अधिक बरामदगी हुई है। प्रवर्तन एजेंसियों ने अब तक 377 मिलियन डॉलर से अधिक की नकदी, शराब, ड्रग्स, सोना और अन्य कंट्राबेंड जब्त किए हैं, जो कि पूरे 2014 के चुनावों में जब्त की गई राशि का दोगुना है।

99 मिलियन डॉलर की नकद राशि की कुल जब्ती में से, प्रवर्तन एजेंसियों ने तमिलनाडु राज्य से 29 मिलियन डॉलर, आंध्र प्रदेश से 19.8 मिलियन डॉलर और तेलंगाना से 9.8 मिलियन डॉलर जब्त किए। आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और तमिलनाडु दक्षिणी भारतीय राज्य हैं जिनकी साक्षरता दर उच्च है और देश के उत्तरी राज्यों की तुलना में आर्थिक रूप से अधिक विकसित हैं। उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल और मध्य प्रदेश जैसे अधिकांश आबादी वाले राज्यों में 16 अप्रैल तक कुल 12 मिलियन डॉलर की बरामदगी हुई है।

भारतीय राजस्व सेवा के पूर्व अधिकारी टीएस कृष्णमूर्ति, जिन्होंने भारत के 13 वें मुख्य चुनाव आयुक्त के रूप में कार्य किया, ने कहा कि “कुल जब्ती यह नहीं दर्शाती है कि पूरी राशि मतदाताओं के लिए है। हमें आयकर रिटर्न डेटा से अध्ययन करना होगा कि क्या जब्त की गई राशि वास्तव में करदाताओं से संबंधित थी या क्या यह वितरण के लिए थी। किसी भी मामले में, अधिक जब्ती यह अवधि चुनाव में धन के अधिक उपयोग का संकेत देती है ।

डेटा से पता चलता है कि एजेंसियों ने 51,374 किलोग्राम नशीले पदार्थों को जब्त किया है, जिनकी कीमत लगभग 165 मिलियन डॉलर है। नारकोटिक्स बरामदगी उत्तर प्रदेश (18,886 किलोग्राम), पंजाब (6,809 किलोग्राम) और महाराष्ट्र (14,704 किलोग्राम), कई अन्य राज्यों में छोटी मात्रा के अलावा, हालांकि दक्षिण भारत में बहुत कम गुणवत्ता की जब्त की गई थी। टीएस कृष्णमूर्ति ने कहा “दक्षिण भारत में, पैसा ज्यादा जब्त हुआ है जबकि उत्तर भारत में शराब और ड्रग्स ज्यादा है,”।

यह बताया जा रहा है कि चुनाव में मतदाताओं को अनिवार्य रूप से वोट देने के लिए नकद और शराब का उपयोग कर रहे हैं। गौरतलब है कि भारत में किसी उम्मीदवार को वोट देने या न देने के लिए नकद स्वीकार करना भारत में गैरकानूनी है और दोषी पाए जाने वालों को जेल की सजा हो सकती है। दिल्ली स्थित सेंटर फॉर मीडिया स्टडीज (CMS) के अनुसार, कुछ राज्यों में, 37 प्रतिशत भारतीय मतदाताओं को विशेष उम्मीदवारों को वोट देने के लिए भुगतान किया गया था।

Top Stories