Thursday , September 20 2018

नकाती प्रोग्राम को मुस्लमानों के लिए कारकरद बनाने का मुतालिबा(मांग‌)

हैदराबाद15 फरवरी :(सियासत न्यूज़) साबिक़ रियास्ती सैक्रेटरी तेलगुदेशम‌ पार्टी जनाब एम ए सिद्दीक़ी ने कहा कि छः साल से ज़ाइद अर्सा गुज़र जाने के बावजूद भी जस्टिस रंगनाथ मिश्रा कमीशन और राजिंदर सिंह सच्चर कमेटी के सिफ़ारिशात पर अम

हैदराबाद15 फरवरी :(सियासत न्यूज़) साबिक़ रियास्ती सैक्रेटरी तेलगुदेशम‌ पार्टी जनाब एम ए सिद्दीक़ी ने कहा कि छः साल से ज़ाइद अर्सा गुज़र जाने के बावजूद भी जस्टिस रंगनाथ मिश्रा कमीशन और राजिंदर सिंह सच्चर कमेटी के सिफ़ारिशात पर अमल दरआमद नदारद है

उन्होंने मज़ीहा कि रियासत के मुस्लमानों को फ़राहम किए जाने वाले चार फ़ीसद तहफ़्फुज़ात तालीमी शोबा में समर आवर साबित होरहे थे मगर हुकूमत का ग़ैर संजीदा रवैय्या मुस्लमानों को फ़राहम किए जाने वाले चार फ़ीसद तहफ़्फुज़ात को कुलअदम क़रार देने का सबब बना है

उन्हों ने कहा कि मुस्लद कहा कि मिश्रा कमीशन और सच्चर कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में हिंदूस्तान के मुसलमानो नके पसमांदगी को काबुल-ए-अफ़सोस क़रार देते हुए पंद्रह फ़ीसद तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी की सिफ़ारिश की थी जनाब सिद्दीक़ी ने मर्कज़ी और रियास्ती हुकूमतों पर मुस्लमानों को वोट बैंक तरह इस्तिमाल करने का इल्ज़ाम आइद करते हुए कहा कि मुस्लमानों से हमदर्दी सिर्फ़ ऐलानात तक महिदूद हो कर रह गई है

उन्होंने मज़ीद कमानों से वोट हासिल करने के लिए कांग्रेस मुस्लमानों को सबज़ बाग़ देखाती है उन्होंने मज़ीद कहा कि वज़ीर-ए-आज़म पंद्रह नकाती प्रोग्राम के ज़रीया मुस्लमानों को रियायतें फ़राहम करने के दावे तो किए गए जबकि मुस्लमानों की बड़ी तादाद वज़ीर-ए-आज़म पंद्रह नकाती प्रोग्राम से ही वाक़िफ़ नहीं है उन्होंने वज़ीर-ए-आज़म पंद्रह नकाती प्रोग्राम को मुस्लमानों के ले कारगरद बनाने का हुकूमत से मुतालिबा किया।

TOPPOPULARRECENT