Saturday , December 16 2017

नक्सली अजय को सारंडा पहुंचने से रोक नहीं पायी पुलिस

रांची 22 अप्रैल : नक्सली तंजीम कम्यूनिस्ट पार्टी माओवादी की झारखंड रीजनल कमेटी (जेआरसी) और मिलिट्री कमीशन का रुक़्न अजय महतो दस्ता के अरकान के साथ सारंडा पहुंच गया है। उसकी मंसूबा सारंडा में सभा कर नक्सलियों का कैडर बढ़ाने और सारं

रांची 22 अप्रैल : नक्सली तंजीम कम्यूनिस्ट पार्टी माओवादी की झारखंड रीजनल कमेटी (जेआरसी) और मिलिट्री कमीशन का रुक़्न अजय महतो दस्ता के अरकान के साथ सारंडा पहुंच गया है। उसकी मंसूबा सारंडा में सभा कर नक्सलियों का कैडर बढ़ाने और सारंडा में दोबारा कब्जा जमाने की है।

इसकी मालूमात चाईबासा और सिमडेगा के पुलिस हिकाम को मिल चुकी है। पुलिस अफसर कार्रवाई की हिक़मत अमली बना रहे हैं.

पुलिस अफ्सरान से मिली जानकारी के मुताबिक़ पिछले माह अजय महतो गिरिडीह से गोला पहुंचा था।

वहां से उसकी मंसूबाबंदी सिल्ली, बुंडू और तमाड़ और अड़की होते-होते बदगांव और उसके बाद सारंडा जंगल पहुंचने की थी। अजय महतो को गोला से निकाल कर महफूज़ बदगांव पहुंचाने की जिम्मेवारी कुंदन पाहन ने एरिया कमांडर राम मोहन मुंडा को दी।

इसकी इत्तेला रांची पुलिस के हिक़ाम को मिल गयी थी। पुलिस ने अजय महतो को रोकने और उसे गिरफ्तार करने के लिए सीआरपीएफ और कोबरा बटालियन के जवानों को लगाया। मुहीम की जिम्मेवारी एएसपी मुहीम शंभु कुमार को मिली।

लेकिन, दरमियान में मुहीम एएसपी की ख़िदमत सीआरपीएफ को वापस कर दी गयी। इस वजह से मुहीम कमजोर पड़ गया।

इसके बाद जिन लोगों ने मुहीम की जिम्मेवारी संभाली, उन्हें कामयाबी नहीं मिली। राम मोहन मुंडा ने अजय महतो को बदगांव तक पहुंचा दिया।

TOPPOPULARRECENT