Sunday , December 17 2017

नजरबंद अलगाववादी नेताओं को छोड़ा जाए- महबूबा मुफ्ती

श्रीनगर। अलगाववादी नेता एसएएस गिलानी, मीरवाइज उमर फारुख को जम्मू-कश्मीर पुलिस ने घर में नजरबंद किया। शनिवार को ही दो सप्ताह की हिरासत के बाद रिहा किए गए यासीन मलिक को भी फिर से गिरफ्तार किया गया है। सैनिक कॉलोनी मुद्दे पर आयोजित होने वाले सेमिनार को देखते हुए पुलिस ने एहतियाती यह कदम उठाया है।

गौरतलब है कि इसी मुद्दे पर जम्मू-कश्मीर विधानसभा में मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला के बीच तीखी झड़प हुई थी
इससे पहले जम्मू एवं कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (JKLF) के प्रमुख यासीन मलिक को दो सप्ताह की पुलिस हिरासत के बाद शनिवार को रिहा कर दिया गया।

अधिकारियों ने यह जानकारी दी। मलिक और कुछ अन्य अलगाववादियों के खिलाफ चल रहे 29 साल पुराने मामले में उन्हें यहां एक टाडा अदालत में पेश किया गया।

मलिक को दो सप्ताह पूर्व हिरासत में लिया गया था और तब से वह हिरासत में थे। वह कश्मीर घाटी में हुर्रियत नेताओं सैयद अली गिलानी और मीरवाइज उमर फारूक के नेतृत्व वाले संगठन सहित विभिन्न अलगाववादी राजनीतिक संगठनों के एकजुट आंदोलनों का नेतृत्व करते रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT