Monday , April 23 2018

नरेश अग्रवाल जैसे नेता राष्ट्रद्रोही हैं और उन्हें गोली मार देनी चाहिए- हिन्दू महासभा

नई दिल्ली। समाजवादी पार्टी से राज्यसभा के सांसद नरेश अग्रवाल द्वारा पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को लेकर दिए गए बयान के बाद संसद से लेकर सड़क पर हंगामा मचा हुआ है.

नरेश अग्रवाल ने कहा कि पाकिस्तान कुलभूषण जाधव को आतंकी मानता है. उनके इतना कहते ही तमाम राजनीतिक पार्टियां सपा नेता अग्रवाल के खिलाफ लामबंद हो गए.

नरेश अग्रवाल के बयान से नाराज हिंदू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि ने एक नीजि टीवी चैनल को दिए गए अपने बयान में दो टूक शब्दों में कह दिया कि ‘नरेश अग्रवाल जैसे नेता राष्ट्रद्रोही हैं और उन्हें गोली मार देनी चाहिए.’

गौरतलब है कि एक न्यूज एजेंसी को दिए अपने बयान में राज्यसभा सांसद नरेश अग्रवाल ने कहा था, ‘अगर उन्होंने (पाकिस्तान) कुलभूषण जाधव को आंतकवादी माना है, तो वो उस हिसाब से ही व्यवहार करेंगे.

हमारे देश में भी आतंकवादियों के साथ ऐसा ही कड़ा व्यवहार करना चाहिए. पाकिस्तान की जेलों में सैकड़ों भारतीय बंद हैं, ऐसे में उनकी भी बात होनी चाहिए, सिर्फ जाधव की नहीं.’

नरेश अग्रवाल के इस बयान पर बीजेपी ने तुरंत घेर लिया. बीजेपी सांसद गिरिराज सिंह ने उनके बयान को शर्मसार करने वाला बताया तो सुब्रह्मण्यम स्वामी ने माफी न मांगने पर संसद सदस्यता की जाने की मांग कर डाली. यहां तक कि उनकी अपनी पार्टी ने बयान की निंदा की.

इसके बाद नरेश अग्रवाल ने अपने बयान पर सफाई दी और एक घंटा बीतने से पहले ही उनके सुर बदलते दिखाई दिए. अपनी सफाई में उन्होंने कहा, ‘पाकिस्तान में सरकार नाम की कोई चीज नहीं है, वहां मिलिट्री और आईएसआई का राज चलता है.

हमें पाकिस्तान से मानवीयता की उम्मीद नहीं रखनी चाहिए. इसीलिए मैं कह रहा हूं कि हमें उसके आतंकियों के साथ कड़ा रवैया अपनाना चाहिए.

हिंदू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि ने कहा, ‘पाकिस्तान भी कुलभूषण जाधव को आतंकी मानता है और भारत के नेता नरेश अग्रवाल भी कहते हैं कि वह आतंकी हैं.

हमें लगता है पाकिस्तान जो हमारे सैनिकों को सीमा पर मार रहा है, उसमें ऐसे नेता उसका साथ दे रहे हैं. ऐसे नेताओं को सबसे पहले गोली मार देनी चाहिए. ऐसे नेता तो देश के लिए बहुत ज्यादा खतरा हैं. सरकार को कड़ी से कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए. यह लोग राष्ट्रद्रोही लोग हैं.’

स्वामी चक्रपाणि ने कहा, ‘यह वास्तव में पाकिस्तान पोषित लोग हैं और इस बात की जांच होनी चाहिए कि कहीं इनकी फंडिंग पाकिस्तान से तो नहीं हो रही है, या फिर पाकिस्तान में वह कौन से तत्व हैं, जिनसे यह लोग मिले हुए हैं, क्योंकि पाकिस्तान की भाषा भारत में रहकर कोई साधारण व्यक्ति नहीं बोल सकता है. सरकार को तत्काल संज्ञान लेकर इस पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए.

TOPPOPULARRECENT