नरोदा गाम नरसंहार: मुस्लमान ने दी हिंदू आरोपी के पक्ष में गवाही

नरोदा गाम नरसंहार: मुस्लमान ने दी हिंदू आरोपी के पक्ष में गवाही

अहमदाबादः 2002 के गुजरात दंगों के दौरान फरवरी 2002 को हुए नारोदा हत्याकांड में दो नए मुस्लिम गवाह आरोपी पक्ष की ओर से सामने आया है, आरोपी दिनेश पटेल को विशेष एसआईटी न्यायालय में पेश किया गया था।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

10 घंटों तक चलने वाले दंगों के दौरान हत्या, अपहरण और महिलाओं के बलात्कार जैसे मामले हुए “यह सामूहिक हत्या का सबसे बड़ा मामला माना गया था। सांप्रदायिक हिंसा के बाद, राज्य में कर्फ्यू लगाया गया था और हिंसा को रोकने के लिए सेना को बुलाया गया था.

मकबूल खान गुलाब खान पठान और निजाम गुलाम अली अंसारी को आरोपी के अनुरोध पर अदालत में उपस्थित होने के लिए समन जारी किया गया था।

अदालत में अपने बयान में जहॉपुरा के निवासी पठान कहते हैं, 2002 में जब नरसंहार हुआ, तो वह नरोदा में जीआईडीसी में एक निजी कंपनी के साथ काम कर रहे थे। वह 28 फरवरी, 2002 को सुबह सुबह 7.30 बजे अपने ऑफिस में पहुंचे। एक घंटे के बाद उसके परिवार के सदस्य ने उसे कॉल कर गोधरा ट्रेन में आग लगने की वजह से शहर में सांप्रदायिक तनाव होने का बताया। परिवार ने उनसे चल रहे देंगे में पकड़े जाने से बचने के लिए घर लौटने के लिए कहा।

उन्होंने आगे कहा कि अपने परिवार से चेतावनी मिलने पर, उन्होंने एक अन्य सह-कार्यकर्ता निजाम गुलमली अंसारी के साथ, चिलोदा गांव के एक निवासी ने कहा कि तुम अपने यूनियन के नेता अमृतकला से संपर्क करो कि वह तुम्हें बढ़ते सांप्रदायिक तनाव के मद्देनजर छुट्टी दे दें। ।

अमृतकला ने उन्हें दिनेश पटेल के पास भेजा, जिसके साथ वे दोपहर तक कंपनी में रह गए और बाद में दिनेश के घर में एक साथ चले गए। वे अगले दिन सुबह दिनेश के साथ पठान अपने घर जाहपुरा गये।
अंसारी ने भी यह बयान दिया कि वह दोपहर तक दिनेश के साथ थे और अदालत में दिनेश की पहचान की।

Top Stories