Monday , December 11 2017

नसीम उद्दीन सिद्दीक़ी जेल जाने के लिए तैयार रहें

उत्तर प्रदेश में अब जब कि समाजवादी की नई हुकूमत की हलफ़ बर्दारी होने को है, नई हुकूमत मुलायम सिंह यादव की क़ियादत में बनती है या फिर नौजवान लीडर अखिलेश यादव की क़ियादत में बनती है। दोनों ही सूरतों में मायावती के मोतमिद ख़ास और बी एस पी

उत्तर प्रदेश में अब जब कि समाजवादी की नई हुकूमत की हलफ़ बर्दारी होने को है, नई हुकूमत मुलायम सिंह यादव की क़ियादत में बनती है या फिर नौजवान लीडर अखिलेश यादव की क़ियादत में बनती है। दोनों ही सूरतों में मायावती के मोतमिद ख़ास और बी एस पी के मुस्लिम लीडर रियास्ती वज़ीर नसीम उद्दीन सिद्दीक़ी और उनके पूरे ख़ानदान का मुश्किलात में पड़ना हर किस्म की ज़िल्लत-ओ-रुसवाई उठानी पड़ेगी।

इन लोगों को कब जेल भेज दिया जायेगा कुछ नहीं कहा जा सकता है। रियास्ती वज़ीर नसीम उद्दीन सिद्दीक़ी और उनके ख़ानदान ने मायावती के दौर-ए-हकूमत में बाक़ौल शख़से दोनों हाथों से दौलत बटोरी है देखते ही देखते ये ख़ानदान करोड़पती हो गया है। इनकी बद दयानतियों, बदउनवानीयों को तो पहले ही उत्तर प्रदेश के लोक आयुक़्त जस्टिस एन के महरोत्रा पकड़ चुके हैं और वो मायावती से नसीम उद्दीन सिद्दीक़ी उनकी बीवी , बेटे, भाई और भतीजे वग़ैरा के ख़िलाफ़ इन्फ़ोर्समेंट डायरेक्ट्रेट और सी बी आई से जांच कराने की सिफ़ारिश कर चुके हैं।

लोक आयुक़्त के यहां जगदीश निरावन शुक्ला ने नसीम उद्दीन के ख़िलाफ़ संगीन बदउनवानीयों की शिकायत की थी और इस सिलसिला में उन्हों ने ज़रूरी काग़ज़ात, दस्तावेज़ात लोक आयुक़्त को मुहय्या कराये।

इनकी शिकायात को लोक आयुक़्त ने दरुस्त पाया और मायावती हुकूमत से सी बी आई जांच कराने की सिफ़ारिश की। जिसे मायावती ने मुस्तर्द कर दिया था । लिहाज़ा मुंदर्जा बाला हक़ायक़ पर कार्रवाई की जाय तो नसीम उद्दीन सिद्दीक़ी का जेल जाना यक़ीनी है लिहाज़ा वो अभी से तैयारी कर लें तो बेहतर होगा।

TOPPOPULARRECENT