Monday , November 20 2017
Home / Crime / नहीं चुका पाए लोन तो तमिलनाडू के इस परिवार ने खुद को किया आग के हवाले!

नहीं चुका पाए लोन तो तमिलनाडू के इस परिवार ने खुद को किया आग के हवाले!

तमिलनाडू के तिरुनेलवेली जिले के कसीधर्मम गाँव का एक ऐसा मामला सामने आया है जहाँ एक जोड़े ने खुद को और अपने बच्चों को आग लगा दी। घटना सोमवार को तिरुनेलवेली कलेक्टरेट के बाहर हुई।

बताया जा रहा है की दंपत्ति लोन का पैसा लेने आए गुंडों की शिकायत करने के लिए कलेक्टर के ऑफिस आए थे जहाँ उनकी शिकायत को अनसुना कर दिया गया।

तिरुनेलवेली जिले के कसीधर्मम गांव के मजदूर इसाकीमुथु ने पास के दो साहूकारों, मुथुलक्ष्मी और गणपतिराज से 1,40,000 रुपये का उधार लिया था। उन्हें कथित तौर पर कहा गया था कि उन्हें कुल राशि का 10% मासिक हित का भुगतान करना होगा जब तक मूलधन का भुगतान नहीं किया जाता।

यह एक अवैध धंधा जैसा बन गया है जिसे ‘कंधु वट्टी’ नाम से जाना जाता है जो कि तमिलनाडु में एक व्यापक रूप से चलन में है। ऐसे ऋणों में लगाए गए अत्यधिक ब्याज दरें कभी-कभी ऋण लेने वालों को मूल ऋण राशि से कई बार समाप्त हो जाती है।

बहुत से मामले ऐसे हैं जहाँ किसानों ने स्थानीय उधारदाताओं से लोन लेते हुए उत्पीड़न के बाद खुद को मारने की कोशिश की और जब अत्यधिक ब्याज दरों का भुगतान नहीं किया गया, तो परिवारों ने अपने घरों और ज़मीन को खो दिया।

रिपोर्ट के मुताबिक, इसाकीमुथु और उनकी पत्नी ने पहले से ही 2 लाख रुपये ब्याज के रूप में भुगतान कर चुके थे, लेकिन उन्हें अभी भी लगातार उत्पीड़न का सामना करना पढ़ रहा था। दलालों ने कथित तौर पर उनके निवास पर दंपती को धमकी दी और उनके बच्चों के सामने उनका दुरुपयोग किया।

उत्पीड़न से तंग आकर, इसाकीमुथु ने कलेक्ट्रेट में दो याचिका दायर की, लेकिन कोई कार्रवाई कथित तौर पर नहीं की गई।

सोमवार को सुबह 11 बजे, यह जोड़ा कलेक्टर के कार्यालय में अपने दो बच्चों के साथ चले गये। इसके बाद उन्होंने अपने ऊपर केरोसीन डाला और खुद को और बच्चों को आग लगा दी।

जब दंपत्ति ने खुद को आग लगायी तो जो लोग वहां उपस्थित थे, कुछ समझ नहीं पाए और आनन-फानन में उनके ऊपर पानी डालने की कोशिश करने लगे।

स्थानीय निवासियों ने टीएनएम को बताया कि यदि जनता के सदस्यों को आत्महत्या करने की धमकी दी गई है, यदि उनकी याचिकाओं पर कार्रवाई नहीं की गई थी, लेकिन आगे बढ़ने से पहले उन्हें लगभग हमेशा रोक दिया जाता है। जब परिवार ने खुद को आग लगा ली, तो वहां लोगों ने वक़्त न गवाते हुए जल्दी से पानी और रेत से आग भुजाने की कोशिश की।

हालांकि, इस घटना ने सोशल मीडिया पर इस तरह की घटनाओं में मीडिया की भूमिका पर बहस शुरू कर दी है, क्योंकि कुछ प्रसारित हुई ऑनलाइन फ़ोटो में देखा जा सकता है कि कैसे कुछ फोटोग्राफर घटना को अपने-अपने कैमरों में कैद कर रहें हैं।

लोग आखिरकार आग को भुजाने में कामयाब रहे, और परिवार को सरकारी अस्पताल ले जाया गया। इसाकीमुथु की पत्नी सुब्बुलक्ष्मी और उनकी सबसे बड़ी बेटी की मृत्यु हो गई, जबकि वह और उनका छोटा बच्चा अब भी ख़तरे में हैं।

पुलिस, हालांकि, अधिकारियों के हिस्से से निष्क्रियता से इनकार करते हैं और दावा करते हैं कि इस मामले में हस्तक्षेप करने के लिए अधिकारियों को समय दिए बिना परिवार ने यह चरम कदम उठाया।

तिरुनेलवेली के पुलिस अधीक्षक कार्यालय के एक अधिकारी ने कहा, “उन्होंने कलेक्टर को याचिकाएं दी थीं और जांच चल रही थी।” उन्होंने कहा, “लेकिन इससे पहले कि वे इस मामले को समझ पाते, उन्होंने यह कदम उठा लिया। हमारे अधिकारी अब इस मामले की जांच कर रहे हैं।”

(क्रेडिट: द न्यूज़ मिनट)

TOPPOPULARRECENT