Monday , December 18 2017

नहीं मिले गिरिराज, झारखंड पुलिस लौटी

साबिक़ वज़ीर व भाजपा लीडर गिरिराज सिंह ने गिरफ्तारी से बचने के लिए पटना की जिला अदालत में जमानत दरख्वास्त दायर कर दी है। गिरिराज सिंह के वकील ने जुमेरात को जिला अदालत में जमानत दरख्वास्त दायर की, जिस पर जुमा को सुनवाई होगी। उनके अहल

साबिक़ वज़ीर व भाजपा लीडर गिरिराज सिंह ने गिरफ्तारी से बचने के लिए पटना की जिला अदालत में जमानत दरख्वास्त दायर कर दी है। गिरिराज सिंह के वकील ने जुमेरात को जिला अदालत में जमानत दरख्वास्त दायर की, जिस पर जुमा को सुनवाई होगी। उनके अहले खाना के ज़राये ने बताया कि वह जुमा को बोकारो की अदालत में सरेंडर करने के लिए पटना से रवाना होंगे।

इधर, सिंह को गिरफ्तार करने पहुंची बोकारो पुलिस को मायूसी हाथ लगी। काफी मशक्कत के बाद भी पुलिस टीम को वह हाथ नहीं लगे। टीम ने काफी चालाकी के साथ जुमेरात की अहले सुबह ही उनके 15 सकरुलर रोड वाकेय रिहाइशगाह में सेक्रेटरीयेट पुलिस की मदद से छापेमारी की, लेकिन वे अपने घर पर मौजूद नहीं थे। बताया जाता है कि बोकारो पुलिस की टीम में एक इंस्पेक्टर, एक दारोगा व पांच जवान थे। वे तमाम देर रात सेक्रेटरीयेट थाना पहुंचे और वहां से पुलिस की टीम को साथ लेकर तमाम करीब तीन बजे सुबह साबिक़ वज़ीर के रिहाइशगाह पर पहुंचे, जहां दो घंटे तक पुलिस टीम को बाहर ही रहना पड़ा, क्योंकि किसी ने रिहाइशगाह का मेन दरवाजा नहीं खोला।

सुबह करीब पांच बजे गिरिराज सिंह के सरकारी बॉडीगार्ड रुपकमल सिंह ने गेट खोला, तो पुलिस टीम ने अंदर दाखिल हुआ। वहां पुलिस टीम की मुलाकात साबिक़ वज़ीर के भाई जयराम सिंह से हुई। उन्होंने जानकारी दी कि गिरिराज सिंह रिहाइशगाह पर नहीं हैं। वे कहां गये हैं, इसकी जानकारी नहीं दे पाये। इसके बाद पुलिस टीम ने जब रिहाइशगाह की तलाशी लेने की कोशिश किया, तो जयराम सिंह ने एतराज़ जतायी और सर्च वारंट की मुताल्बा की। इस बात को लेकर पुलिस टीम व जयराम सिंह के दरमियान काफी देर तक बक-झक होती रही।

कुर्की-जब्ती का होगा : जयराम सिंह ने पुलिस टीम को बताया कि गिरिराज सिंह खुद ही सरेंडर कर देंगे। इसके बाद पुलिस टीम वापस लौट गयी। इस दौरान बोकारो पुलिस टीम में शामिल इंस्पेक्टर रामजी प्रसाद ने बताया कि गिरिराज सिंह को वे लोग गिरफ्तार करने के लिए पहुंचे थे, लेकिन वे नहीं मिले। उन्होंने कहा कि गिरिराज सिंह को पकड़ने के लिए बड़हिया और पटना वाकेय उनके रिहाइशगाह पर छापेमारी की गयी है, लेकिन दोनों जगह से वे फरार हैं। उनकी गिरफ्तारी नहीं होने की वजह अब अदालत से कुर्की जब्ती का दरख्वास्त किया जायेगा।

TOPPOPULARRECENT