Thursday , December 14 2017

नाइजीरिया में दो सौ शरणार्थीयों की भूख और प्यास से मौत

बामा: चरमपंथी संगठन बोको हराम के काम की वजह से विस्थापित शरणार्थियों में से दो सौ पिछले महीने भूख और प्यास से मर गए।विश्व राहत संस्था के डॉक्टरस विद आउट बॉर्डर्स की ओर से बुधवार 23 जून को बताया गया है कि बोको हराम के हमलों के संदर्भ में अपने घरबार छोड़कर नाइजीरिया के पूर्वोत्तर शहर बामा में शरण लेने वाले प्रवासियों में से करीब दो सौ पिछले महीने खाद्य पदार्थ और पानी की अनुपलब्धता की वजह से अपने जीवन की बाज़ी हार बैठे।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

इस अंतरराष्ट्रीय संस्था की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि बामा में मौजूद शरणार्थियों और खासकर  बच्चे रोज़ाना भूख और प्यास का शिकार होकर अपना जीवन खो रहे हैं।डॉक्टरस विद आउट बारडज के अनुसार, ” इस क्षेत्र में एक विनाशकारी मानव त्रासदी की सी स्थिति है। ”इस संगठन का कहना है कि अब तक उस के एक अस्पताल के भवन परिसर में सैकड़ों प्रवासि शरण लिए हुए हैं।

इस संगठन का कहना है कि मिदोगोरी में भी 16 बच्चों को भोजन की कमी ही पीड़ित होने पर एक अस्पताल के गहन चिकित्सा के वार्ड में विशेष रूप से भोजन दिया जा रहा है, हालांकि उनके मर जाने का खतरा अभी भी मौजूद है ।

समाचार एजेंसी एसोसिएटेड प्रेस के अनुसार बोको हराम के आतंकवादी हमलों के संदर्भ में घर बार छोड़ने पर मजबूर होने वाले 15 हजार शरणार्थियों में से हर पांच में से एक भोजन और पानी की कमी का शिकार है।नाइजीरिया में डॉक्टरों विद आउट बॉर्डर्स मिशन के प्रमुख गदा हातिम का कहना है, ” हम आतंकवाद और हमलों को अपनी आंखों से देखने वाले अपने इन रोगियों में से प्रत्येक के चेहरे पर खौफ और दहशत देख रहे हैं। ”

हातिम टीम मंगलवार को एक सैन्य काफिले हम राह बोर्नो प्रांत के शहर मिदोगोरी पहुंची थी। मिदोगोरी ही में बोको हराम के खिलाफ जारी आधिकारिक सैन्य अभियान का मुख्यालय भी है।बामा क्षेत्र मिदोगोरी से 70 किलोमीटर पश्चिम में स्थित है, जबकि सेना और बोको हराम के बीच जारी संघर्ष के कारण इस क्षेत्र में यात्रा असुरक्षित हो गया है, जबकि स्थानीय किसान भी पिछले 18 महीने से कोई फसल की खेती नहीं कर पाए हैं।

TOPPOPULARRECENT