Saturday , December 16 2017

नाईजीरिया के मोहलिक हमलों में एक हिंदूस्तानी हलाक, 6 ज़ख़मी

अबूजा, २३ जनवरी (पी टी आई) हिंदूस्तान का एक 23 साला शहरी हलाक और 6 दीगर हिंदूस्तानी बिशमोल दो बच्चे ज़ख़मी हो गए। जब कि एक इस्लामी ग्रुप ने उन पर बमबारी और फायरिंग की, जिस के नतीजे में शुमाली नाईजीरिया के सब से बड़े शहर कानू में जुमला 162 अफ़

अबूजा, २३ जनवरी (पी टी आई) हिंदूस्तान का एक 23 साला शहरी हलाक और 6 दीगर हिंदूस्तानी बिशमोल दो बच्चे ज़ख़मी हो गए। जब कि एक इस्लामी ग्रुप ने उन पर बमबारी और फायरिंग की, जिस के नतीजे में शुमाली नाईजीरिया के सब से बड़े शहर कानू में जुमला 162 अफ़राद हलाक हो गए।

हिंदूस्तान के हाई कमिशनर बराए नाईजीरिया ने आज एक ब्यान जारी करते हुए कहा कि गुजरात के इलाक़ा दाहोद का मुतवत्तिन केवल कुमार कालीदास राजपूत, जो कानू की कंपनी रोलकेम में मुलाज़मत करता था, मोहलिक हमलों के 162 महलोकीन में शामिल है। राजपूत और इस के दो नेपाली साथी हरी प्रसाद भोसल और राज सिंह हलाक हो गए, जब कि वो झड़पों के इलाक़े में दाख़िल हो गए थे।

ब्यान के बमूजब दीगर छः हिंदूस्तानी बिशमोल दो कमसिन बच्चे जो दो ख़ानदानों से ताल्लुक़ रखते हैं, गोलीयों के छर्रों और मुनहदिम होने वाले मकानों की ज़द में आकर ज़ख़मी हो गए और कानू हॉस्पिटल में ज़ेर-ए-इलाज हैं। अस्करीयत पसंदों ने मुक़ामी शहरीयों, सयान्ती अरकान अमला और फ़ौजी ओहदा दारों पर बमबारी और फायरिंग की थी।

नई दिल्ली में वज़ीर-ए-ख़ारजा एस एम कृष्णा ने कानू में मोहलिक हमलों की मुज़म्मत करते हुए जानों के बद बख्ता ना ज़्यां पर इज़हार-ए-अफ़सोस किया है। हलाक होने वाले हिंदूस्तानी के और ज़ख़मी होने वाले हिंदूस्तानियों के अरकान ख़ानदान ने ओहदा दारों से रब्त पैदा किया है। नाईजीरिया के अस्पताल के ज़राए के बमूजब मुर्दा ख़ाना में 162 नाशें मौजूद हैं।

महलोकीन की तादाद में इज़ाफ़ा का भी अंदेशा है, क्योंकि शहर के मुख़्तलिफ़ इलाक़ों से अस्पताल को मज़ीद नाशें मुंतक़िल की जा रही हैं। रेडक्रास के ओहदादार नवा कप्पा ओ नवा कप्पा ने कहा कि रेडक्रास हनूज़ नाशें जमा करने और ज़ख़मीयों को अस्पतालों के हंगामी ख़िदमात शोबों में मुंतक़िल कर रहा है।

एक डाक्टर अमीनो कानू टीचिंग हॉस्पिटल ने कहा कि बाज़ ज़ख़मीयों को जिन्हें तिब्बी इमदाद के लिए अस्पताल मुंतक़िल किया गया है, ग़ैर मुल्की बिशमोल हिंदूस्तानी हैं, जो एस एस एस हैड क्वार्टर्स के क़रीब मुक़ीम थे। पुलिस ने सरकारी तौर पर हलाकतों की तादाद का ऐलान नहीं किया है। गवर्नर रियासत कानू रबीअ को उनका वासू ने 24 घंटे का कर्फ़यू नाफ़िज़ कर दिया है।

फ़ौजी चौकियां शहर के मुख़्तलिफ़ इलाक़ों में क़ायम कर दी गई हैं। ओहदादारों के बमूजब अस्करीयत पसंदों में से चंद ख़ुदकुश बम बर्दार थे। उन्हों ने चार पुलिस स्टेशनों, मुल़्क की खु़फ़ीया पुलिस के हैड क्वार्टर्स, रियास्ती सयान्ती ख़िदमात के हेडक्वार्टर्स और एक इमिग्रेशन के दफ़्तर को हमलों का निशाना बनाया। पुलिस ज़राए ने कहा कि हलाकतों की तादाद की हनूज़ तौसीक़ नहीं हो सकी।

बमबारी करने वालों की तादाद 20 थी। अस्करीयत पसंदों और फ़ौज के दरमयान ज़िला बोमपाल में झड़प के बाद मोहलिक हमले किए गए।

TOPPOPULARRECENT